मुख्य पृष्ठ » XXX कहानी » ट्रैफिक लेडी की चूत और गांड मारी


ट्रैफिक लेडी की चूत और गांड मारी

Posted on:- 2023-01-30


नमस्कार फ्रेंडस.. मेरा नाम ब्रजेश है और मेरी उम्र 30 साल है. मैं दिल्ली की एक मार्केटिंग कंपनी में काम करने के साथ साथ मसाज भी करता हूँ.. मैंने जब बहुत सी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी तो सोचा कि में भी अपनी एक सच्ची स्टोरी आप सभी को बताऊँ. यह कहानी एक ट्रैफिक लेडिस पुलिस की है.. जो की वेस्ट दिल्ली में नौकरी करती थी. एक दिन जब में अपने ग्राहक का इंतजार कर रह था.. तो मैंने देखा कि पास ही के एक क्लब में पार्टी चल रही है.. वो एक लेडीस किटी पार्टी थी. तभी में भी गेट पर खड़ा हो गया और पार्टी खत्म होने का इंतजार करने लगा. तो करीब रात के 9:30 बजे एक कार बाहर आयी और मुझे उसमे तीन आंटियां दिखाई पड़ी. वो सभी गाड़ी खड़ी करके दारू पी रही थी.. तो में समझ गया कि आज तो बड़िया पैसे मिल सकते है.

इसके बाद में उनकी कार के पास गया तो एक आंटी बाहर आई और बोली कि तुम कपड़ो से तो अच्छे घर के लड़के लग रहे हो? तो में उनके शरीर को देखकर समझ गया कि वो मसाज करवाती होंगी और मैंने उसे बताया कि में अभी नया नया हूँ. तो वो बोली कि ठीक है.. चल अब बता कितना लेगा? इसके बाद मैंने कहा कि आप मज़ा करो और जितना आप दोगे में ले लूँगा और इसके बाद उसने मुझे 2000 रुपय दिए और कहा कि अगर काम अच्छा करोगे तो और भी मिलेगा. तो उन तीनो आंटियों ने मुझे साथ में लिया और अपनी कोठी पर ले गई वो तीनो पूरी नशे में थी.. लेकिन उनकी कोठी पर मुझे कोई भी नहीं दिखा शायद वो तीनो अकेली थी और मजे मस्ती कर रही थी.

इसके बाद उन्होंने मुझे अंदर ले जाकर सोफे पर बैठाया और थोड़ी देर बाद म्यूज़िक शुरू कर दिया और उन्ही में से एक ने मेरे मुहं पर एक कपड़ा बांध दिया और मुझसे डांस करने के लिए कहा.. उन्ही में से एक आंटी पूरी नंगी थी और मेरे वो साथ डांस कर रही थी. इसके बाद उस नंगी आंटी जिसका नाम शालिनी था उसने मेरी अंडरवियर उतार दिया और वो बहुत हैरान थी क्योंकि मेरा लंड बहुत बड़ा है करीब 7 इंच लंबा और मोटा.. लेकिन वो मेरी गांड को दबा रही थी. उनमे से एक का नाम निशा और दूसरी का नाम मोनी था. उन तीनो की उम्र करीब 30-35 साल के आस पास थी और तीनो का फिगर भी बहुत अच्छा था मुझे यह सब उनको पहली बार देखकर पता चला था.

इसके बाद निशा और मोनी ने भी अपने अपने कपड़े उतार दिए. वो तीनो सुंदर तो थी.. लेकिन बहुत मोटी भी थी. इसके बाद शालिनी ने मुझे सोफा पर बैठाया और मेरे मुहं के सामने खड़ी हो गई और वो अब मुझसे अपनी भोसड़ी चटवा रही थी.. तो वो उल्टी हो गये और मुझे गांड चटाने लगी वो सभी पागल सी हो गयी थी और उन्होंने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरे दोनों हाथ बाँध दिए.

तो मोनी बोली कि में सबसे पहले इससे चुदवाऊँगी और इसके बाद मोनी ने मेरा लंड चाट चाटकर खड़ा कर दिया और जोर जोर से लोलीपोप की तरह चूसने लगी और 69 पोजिशन में आ गयी. इसके बाद उसने सिसकियाँ भरना शुरू कर दिया और उसने अपनी भोसड़ी मेरे मुहं पर रखी और कहने लगी कि चाट ले मेरी चूत ऊह्ह्ह चाट ले चूत आज उफफ अम्म्म.. तो में भी उसकी चूत अपनी पूरी जीभ घुसकर चाटने लगा. इसके बाद थोड़ी देर के बाद मोनी ने मेरा लंड अपने एक हाथ से पकड़ा और अपनी चूत में डाला और मेरे लंड के ऊपर बैठ गई. मेरा लंड भी पहले से ही खड़ा था और उसके लंड पर बैठते ही वो मोनी की चूत की गहराइयों में चला गया. इसके बाद मोनी पूरा दम लगाकर अपनी मोटी गांड उठा उठाकर मेरा लंड अपनी चूत में लेने लगी और वो खुद ही अपनी चूत को मेरे लंड से चोदने लगी. इसके बाद करीब 10 मिनट चुदाई के बाद वो झड़ गयी और उठी.. लेकिन मेरा लंड अभी भी खड़ा था और वो सभी हंस रही थी और कह रही थी कि देख साले ने एक को ठंडा कर दिया और इसके बाद भी तनकर खड़ा है.

तो शालिनी ने मुझे घोड़ा बनाकर बेड पर बांध दिया और वो खुद मेरे नीचे आ गयी और घोड़ी बनकर मेरा लंड अपनी चूत में ले लिया. इसके बाद मैंने एक ज़ोर से झटका दिया और लंड पूरा का पूरा एक ही बार में उसकी चूत में चला गया. शायद उन तीनों की चूत बहुत गीली और खुली हुई थी और वो इससे पहले भी कई बार किसी और से चुदाई करवा चुकी थी वो मुझे उनकी चूत की हालत महसूस करके पता चल रहा था. इसके बाद में शालिनी की पूरी चुदाई कर रह था और मैंने उसे जोर जोर से धक्के देने शुरू किए. तभी निशा एक डंडा लाई और मुझे लगा कि वो शालिनी की चूत में डालेगी.. लेकिन वो मेरी गांड पर ही चड़ गई. उसने वो डंडा मेरी गांड में घुसा दिया और मेरी चुदाई करने लगी. इसके बाद शालिनी ने मेरा लंड अपनी चूत से पकड़कर बाहर किया और मोनी ने उसकी जगह ले ली थी और इसके बाद शालिनी ने अपनी गांड मेरे मुहं में घुसा दी और चिल्लाने लगी.. साले चाट मेरी गांड और में उसकी गांड चाट रह था और मोनी की चूत मार रहा था और निशा मेरी गांड मार रही थी.

इसके बाद उन सभी ने मुझे कई बार चोदा और बहुत तड़पाया और अब सुबह होने को थी.. तो निशा बोली कि चल में तुझे बाहर छोड़ती हूँ. तो वो मुझे अपनी गाड़ी में बैठाकर ले गई.. सुबह के 6 बजे थे.. लेकिन थोड़ा बहुत अंधेरा था. तो वो बोली कि तूने मेरी अच्छे से नहीं चाटी चल अब चाट.. वो कुत्ते की पोज़िशन में बैठ गई और बोली कि चल मेरी चूत और गांड दोनों को बारी बारी से चाट. तो में चाटने लगा और वो सिसकियाँ लेने लगी आओऊँ उफ्फ्फ चाट कुत्ते गांडू चूत चाट आअम्म उफ्फ्फ चाट साले. इसके बाद वो बोली कि चल अब जल्दी से लंड डाल और चोद मुझे. मैंने उसकी गांड पर लंड रखकर उसकी गांड मारी और 30 मिनट तक उसकी गांड और चूत मारी.. लेकिन अब वो थक चुकी थी और में भी. तो मैंने कहा कि अब मुझे और रुपये दो. तो उसने मुझे 6500 रुपय दिए पूरी रात के में और वो पूरी नंगी थी.

तभी एक ट्रैफिक पुलिस की गाड़ी आई और उसने हमे पकड़ लिया.. तो उन्होंने निशा से पैसे लेकर उसे छोड़ दिया और वो चली गई और मुझे पकड़ लिया.. वो एक लेडीस इन्स्पेक्टर थी और इसके बाद उसने हवलदार को जाने को कहा में बहुत डर गया. इसके बाद वो बोली कि मादरचोद लगता है कि तेरे लंड में बहुत दम है. तो मैंने कहा कि नहीं.. में तो बस रोटी कमाता हूँ. मेरा लंड अभी खड़ा था और उसकी नज़र पड़ी और वो बोली कि चल अब आज मुझे भी चोद दे. तो में बहुत डर गया.. लेकिन वो हकीकत में बोल रही थी.. लेकिन वो एक काली और बदसूरत मोटी औरत थी.

इसके बाद वो मुझे अपने सरकारी क्वॉर्टर ले गये और वो मुझे बेडरूम में ले गई और अपनी मोटी काली गांड खोलकर बोली कि चल चाट साले दिखा अपना कमाल. तो में शुरू हो गया और इसके बाद 20 मिनट तक उसकी चूत और गांड चाटने के बाद वो बहुत गरम थी. मैंने अपना लंड उसकी भोसड़े में डाल दिया तो वो चिल्लाई और उसकी गांड फट गयी और मैंने उसके मुहं में रुमाल ठूँसा और 20 मिनट तक उसकी भोसड़े और गांड मारी और उसे बंद करके वहां से अपने घर भाग गया. इसके बाद उसने मुझे बहुत ढूंढ़ने की कोशिश की पर मै न मिला.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।