मुख्य पृष्ठ » XXX कहानी » हाइवे पर गांड मरवाई


हाइवे पर गांड मरवाई

Posted on:- 2024-05-23


नमस्कार साथियों, मेरा नाम कमला है और में उज्जैन की रहने वाली हूँ और यह कहानी आज से 3 महीने पहले की मेरी और मेरे बॉयफ्रेंड की है. विपिन को भोपाल में कुछ काम था, तो वो मुझे भोपाल लेकर जाना चाहता था और वो चाहता था कि में भी उसके साथ जाऊं और एक बार विपिन ने कहा, तो मेरा मना करने का सवाल ही नहीं उठता था.

 

मैंने अपने घर में बहाना बनाया और में शनिवार की शाम विपिन के साथ निकल गई, विपिन अपने दोस्त की कार लाया था. में अगले दो दिन विपिन के साथ ही रहने वाली थी. मैंने अपनी ब्रा, पेंटी और स्कर्ट्स पैक कर ली, जो मुझे विपिन ने गिफ्ट कि थी. मैंने पूरी तरह क्लीन शेव रहना शुरू कर दिया था. में विपिन की गाड़ी में जैसे ही बैठी, विपिन ने ज़ोर से मेरा बूब्स दबाया, मैंने भी रिटर्न में विपिन को स्माइल दी और आगे झुक कर एक लिप पर किस किया, उसने ड्राईव करना स्टार्ट किया और सारे ग्लास चढ़ा कर ए.सी चालू कर दिया, इस समय शाम के 8 बज रहे थे.

 

करीब डेढ़ घंटेकी ड्राईव के बाद हम सिटी से बाहर आ गये थे और म्यूज़िक सिस्टम पर कम आवाज में म्यूज़िक बज रहा था में विपिन के साथ मजे कर रही थी. उसके बाद अचानक पता नहीं क्या सोच कर विपिन ने अपनी पेंट की चैन खोल दी और अपना लंड बाहर निकाल दिया और उसको हाथ में लेकर धीरे-धीरे मुठ मारने लगा.

 

उसने अपना हाथ मेरे चुतरों पर रखा और मेरा मुँह उसके लंड कि तरफ खींचते हुए कहा “चल मेरी रानी शुरू हो जा” विपिन के लंड की तो में वैसे ही दीवानी थी. मैंने झट से लंड मुँह में ले कर चलती कार में ही चूसना शुरू कर दिया. विपिन आराम से हाइवे पर कार चला रहा था और में पास की सीट पर बैठ के उसका लंड चूस रही थी और विपिन को मज़े आ रहे थे. अब वो आअहह ऊहह की हल्की-हल्की आवाज़ें निकाल रहा था और वो उसके हाथ से कभी कभी मेरे बालों से खेल रहा था. मैंने अपना चेहरा पूरी तरह उसकी झाटों में गड़ा रखा था और लंड को अच्छे से चूसने में लगी थी.

 

उसके बाद विपिन ने गाड़ी हाइवे पर साईड में रोककर कार की लाईट चालू कर दी और मेरा चेहरा पकड़कर किस करने लगा. वो काफ़ी गर्म हो चुका था. उसकी टांग मेरी टांग से लिपटी हुई थी, में भी बीच बीच में उसकी जुबान को अपने मुँह में लेकर उसे चूस रही थी और उसने इतने अच्छे से फ्रेंच किस मुझे कभी नहीं दी थी. उसके बाद उसने मुझे पीछे वाली सीट पर जाने को बोला और खुद भी उतरकर पीछे चला गया. मैंने कभी कार में अपनी गांड नहीं मरवाई थी और ये मेरे लिए एक नया अनुभव था.

 

उसने पीछे जाकर अपनी पेंट पूरी तरह उतार दी, मैंने भी अपनी टी-शर्ट और शॉर्ट्स उतार दिए और हम पूरे नंगे हो गये. उसके बाद में खिसक कर उसके पैरों के बीच में बैठ गई और उसने अपनी दोनों टांगे उठाकर आगे वाली सीट के ऊपर रख दी और में उसका लंड चूसने लगी. में थोड़ी देर लंड चूसती, तो उसके बाद कुछ देर बाद उसके आंड चाटने लगती, उसके बाद थोड़ी देर उसकी गांड चाटने लगती.

 

विपिन को मेरा भोसड़ी चाटना बहुत पसंद था, इससे उसका लंड स्टील की तरह खड़ा हो जाता था, मुझे भी उसको खुश करना अच्छा लगता था, इसलिये मुझे उसकी गांड चाटना भी अच्छा लगता था. काफ़ी देर ऐसे ही गांड चाटने के बाद उसने मुझे ऊपर खींचा और मेरे लिप पर किस किया और उसके बाद मुझे अपनी गोद में बैठाया. में उसके दोनों साईड पैर रखकर उसकी तरफ मुँह करके बैठ गई.

 

विपिन तो अब पागल हो रहा था, वो अब मेरी गर्दन पर किस करते करते मेरे निपल्स तक पहुँच गया था, उसके बाद उसने मेरा निप्पल मुँह में ले लिया और उसके साथ अपनी जीभ से खेलने लगा. उसके बाद मैंने उसका सिर अपने हाथों से अपने बूब्स पर दबाया और अपने निप्पल को उसके मुँह में दबाने लगी, में पूरे टाइम “ओह विपिन आअहह…अया… विपिन…. ओहओ….अयाया… आराम से विपिन” की आवाजे निकाल रही थी.

 

उसके बाद विपिन ने मुझसे सीट पर लेटने को कहा, मुझे पता था वो क्या करने वाला है में झट से सीट पर लेट गई और अपनी टाँगे हवा में उठा ली. उसके बाद विपिन ने अपना लंड गांड के छेद पर लगाया और अंदर धकेलने लगा, मैंने अपने हाथ उसके चूतड़ो पर रखकर उसको अंदर खींचने लगी, आह्ह्ह विपिन ओह हनी.

 

विपिन ने धीरे-धीरे धक्के मारने शुरू किए और उसके बाद मैंने भी अपनी गांड को धक्का देकर उसके धक्को का साथ देने लगी. उसके बाद विपिन आगे झुका और मुझे किस किया और उसके बाद अपनी उंगलियों से मेरे बूब्स से खेलने लगा और यह सब करने से मेरी चूत बिना लंड को टच किए ही पानी छोड़ने लगी थी. विपिन ने अपनी उंगली को चूत के पानी से गीला किया और मेरे मुँह में वो उंगली घुसा दी.

 

उसके बाद मैंने विपिन कि उंगली चाट के साफ कर दी. अब विपिन के धक्को की स्पीड बढ़ गई थी और में भी विपिन को और ज़ोर से करने के लिए बोल रही थी “ज़ोर से विपिन और तेज़, में तुम्हारी रंडी हूँ, चोद डालो इस रांड़ को, मेरी गांड का फाड़ दो आज, अया अया… हाँ विपिन और ज़ोर से, आई लव यू विपिन आआआह्ह्ह्ह. उसके बाद एक ज़ोर के झटके के साथ विपिन ने अपना पानी मेरी गांड में छोड़ दिया.

 

1 मिनट साँस लेने के बाद विपिन ने अपना लंड बाहर निकाला, मैंने अच्छी रखेल की तरह उसका लंड चूस के साफ कर दिया. उसके बाद जब में कपड़े पहनने लगी, तो विपिन ने मुझे नंगे ही आगे बैठने को कहा और में भी उसकी बात मान कर आगे बैठ गई और उसके बाद उसने कार ड्राईव करना शुरू कर दी. वो बीच बीच में कभी मेरे निपल पर हाथ फेरता, तो कभी भोसड़ी सहलाता, तो कभी ऊँगली डालता और पूरे रास्ते हमने खूब मजा किया. अब हम आपको बताते हैं कि महीने के हर बुधवार को हाइवे पर जाकर भोसड़ी चुदती हूँ.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।