मुख्य पृष्ठ » XXX कहानी » अनजान औरत को परिवार का सदस्य बनाया


अनजान औरत को परिवार का सदस्य बनाया

Posted on:- 2022-11-15


हैल्लो साथिओं, में आप सभी के सामने अपने बेटे की चुदाई की एक सच्ची घटना लेकर आई हूँ. जिसमे उसने जमकर चुदाई की और अपने लंड की भूख मिटाई. आज में उसी कहानी को आप सभी को विस्तार से सुनाने जा रही हूँ. साथिओं मेरे बेटे कपिल ने पूरे परिवार को अपने लंड से चोद-चोदकर चुदक्कड़ बना दिया था. उसके बाद उसने मुझसे मेरी एक ब्रा पेंटी की सिलाई की फॅक्टरी खुलवाई और जिसकी वजह से कैसे उसे नई नई भोसड़े को चोदने का मौका मिले? तो यह बात उस समय की है जब हम लोग लन्दन से घूमकर वापस आए, तब तक बारिश का सीज़न आ गया था और उसके बाद अब तक तो हम लोग रोज़ ही सेक्स करते. लेकिन साथिओं सबसे पहले में आप सभी को यह बता दूँ कि में कोई रांड नहीं हूँ, बस मेरी चूत लंड की प्यासी है और अब में ज्यादा समय खराब ना करते हुए अपनी आज की कहानी पर आती हूँ.

साथिओं हमने मार्च में अपनी फॅक्टरी खोली और अब हमारी फॅक्टरी बहुत अच्छे से चल रही थी. हमने अब एक बंगला भी खरीद लिया है और कपिल ने भी ग्रेटर नोएडा में ही एड्मिशन ले लिया और मेरे बड़े बेटे ने अपना तबादला ग्रेटर नोएडा में ले लिया और अब में, मेरा बेटा और मेरी बहू हमारी फॅक्टरी संभालते है और कभी कभी कपिल भी आता है, जब उसको कॉलेज से छुट्टियाँ मिलती है.

तो एक दिन वो मई का महीना था, उस दिन शनिवार था और मेरी बेटी और बहू घर पर थी और कपिल ने मेरे साथ आकर सुबह करीब 9 बजे फॅक्टरी खोली और उस समय हमारे पास कुछ नया माल आया हुआ था. नई नई डिज़ाईन की ब्रा, पेंटी, जालीदार, बिना डोरी वाली पेंटी, ब्रा, और हर तरह की बिकनी थी, तो उस समय हमारे पास 4 पुतले थे.

मैंने कपिल को कहा कि बेटे इनको इसमे से एक एक कपड़े पहना दो और उसके बाद कपिल ने उनकी पुरानी वाली पेंटी ब्रा उतारी और उन पर एक नई वाली ब्रा, पेंटी चड़ा दी और उसके बाद करीब एक घंटे के बाद ठीक 10 बजे एक औरत हमारी फॅक्टरी पर आई, जो की हमारे पास हर हफ्ते कुछ ना कुछ लेने आती थी और वो कपिल को बहुत पसंद करती थी. उनका नाम कमला था और उनकी उम्र करीब 28 साल थी. लेकिन उसको कोई अपने नाम से बुलाए, उसको बिल्कुल भी पसंद नहीं था. उसके फिगर का साईज 36-26-36 था और वो दिखने में बहुत ही सुंदर थी और अपने चेहरे से शादीशुदा नहीं लगती थी. तो उस समय में काउंटर पर बैठी हुई थी और उसके बाद वो अंदर आई मैंने उससे वेलकम किया और उससे पूछा कि आज किस तरह की डिज़ाईन चाहिए?

उसने बोला कि में कल गोवा जा रही हूँ तो मुझे कुछ बिकनी की डिज़ाईन दिखायो. तो मैंने उसे कपिल के पास भेज दिया.

कपिल : हैल्लो आंटी.

कमला : हैल्लो बेटा, कैसे हो?

कपिल : में ठीक हूँ और आंटी आप कैसी हो?

कमला : में भी एकदम ठीक हूँ बेटा.

कपिल : तो आंटी आज में आपको कैसी बिकनी दिखाऊँ?

कमला : तुम मुझे एकदम सेक्सी बिकनी दिखाना, जिसको पहनकर में बहुत हॉट दिखाई दूँ.

कपिल : लेकिन आंटी आप तो पहले से ही इतनी हॉट सेक्सी हो, उसमे में क्या कर सकता हूँ.

कमला : चुप शरारती लड़के मुझे एसी बिकिनी चाहिए जैसी बीच पर किसी ने ना पहनी हो, में वहां पर एकदम हटकर दिखूं, मुझ पर सब की नजर हो, सब मुझे ही देखे.

तो कपिल ने उसे एक टाईनी बिकनी दिखाई और उस बिकनी का फोटो भी दिखाया और कहा कि यह सबसे सेक्सी बिकनी है, जो अंदर से बाहर की तरफ कुछ भी नहीं छुपाती.

कमला : हाँ, दिखने में तो अच्छी है, लेकिन क्या यह मेरे ऊपर फिट होगी?

कपिल : हाँ हाँ आंटी यह आप पर बिल्कुल फिट होगी, बल्कि आप इसको पहनने के बाद बहुत ही सेक्सी दिखने लगोगी, हर कोई बस आपको ही घूर घूरकर देखेगा.

कमला : तुम्हारा बहुत बहुत धन्यवाद बेटा. लेकिन इसे एक बार पहनकर तो देखनी पड़ेगी ना.

साथिओं में उन दोनों की वो सभी बातें सुन रही थी और सब कुछ देख रही थी. तो मैंने कपिल से कहा कि तुम इन्हे पीछे वाले रूम में लेकर जाओ और उसके बाद इन्हें बिकनी पहनाकर देखो कि वो इनके ऊपर फिट हो रही है या नहीं? तो कपिल उन्हे पीछे वाले रूम में लेकर गया, जहाँ पर सभी अपनी अपनी पसंद के कपड़े पहनकर देखते थे और उसके बाद करीब 5-10 मिनट के बाद मुझे सेक्सी सी आवाज़े आने लगी आह्ह्हह्ह्ह्ह आऐईईइ उफ्फ्फ्फफ्फ्फ़ छोड़ मुझे और बहुत ही जल्दी में समझ गई कि कपिल उसे चोद रहा है तो मैंने डीवीडी पर गाने शुरू कर दिए और आवाज बड़ा दी, ताकि बाहर किसी को आवाज़ ना सुनाई दे.

उसके बाद वो करीब आधे घंटे के बाद बाहर आए और जब तक मैंने दो तीन ग्राहक फ्री कर दिए. उसके बाद मेरे पास दो लकड़ियाँ आई और वो दोनों लड़किया करीब 18 साल की थी और मेरी शॉप ब्रा, पेंटी और सेक्सी कपड़ो के लिए मशहूर थी, मैंने उन्हे कपिल के पास भेज दिया. उसके बाद वो अंदर चली गई और उसके बाद जैसे ही वो बाहर आई उसकी चाल एकदम बदल गयी थी, वो जीन्स और टॉप में थी. तो उसने मुझसे कहा कि आपका बेटा बड़ा ही कमाल का है. लगता है कि इसे साथ में लेकर जाना पड़ेगा.

में : हाँ हाँ लेकर जाइए, नहीं तो आप एक काम कीजिए, रात को हमारे घर पर आ जाइए, आपको बहुत मज़ा आएगा.

तो कमला एक तरफ बैठ हुई थी, वो हमारी बात के बीच में बोली कि हाँ, यह बिल्कुल ठीक कह रही है, आप ऐसा ही कीजिये. तो कपिल ने उसके होंठ पर किस दिया और उसने दो बिकनी ली और उसे अलग से 500 रूपये देकर चली गयी और उसके बाद मुझसे कपिल ने कहा कि आज रात को बहुत मज़ा आने वाला है, क्या चूत, बूब्स और गांड थे उसके, एकदम गोरे जैसे दूध में से निकलकर आई हो. उसने मुझे उसके बाद से मनाया और उसके बाद उस दिन शाम को उसका फोन आया कि में आ जाउंगी, आप मुझे अपने घर का पता मैसेज कर दो.

कपिल ने उसे हमारे घर का पता मैसेज में भेज दिया और वैसे भी हमारी फॅक्टरी पर जो भी 30 साल के नीचे की औरत आती है, उसे कपिल ही सम्भालता है. बहुत तो उस पर फिदा है जो उसकी वजह से हर तीन चार दिन में आती है. तो उसके बाद शाम को 8 बजे कमला का कॉल आया कि में आपके घर के लिए मेरे घर से निकल रही हूँ. तो हमने अपनी फॅक्टरी बंद कि और घर पर पहुंच गये. हमने घर पर पहुंचकर देखा तो वो घर के बाहर हमारा इंतज़ार कर रही थी. उसने स्कर्ट और टॉप पहना हुआ था. हमारे घर पर तो सब लोग नंगे थे और उसके बाद हमने कार खड़ी की और उसके बाद मेरी बहू ने दरवाजा खोला, वो एकदम नंगी थी और कमला उसे वैसे देखकर बिल्कुल हैरान हो गयी और पूछने लगी.

कमला : क्यों यह आपकी बहू है ना?

में : हाँ, यह मेरी बहू है.

कमला : तो यह बिल्कुल नंगी क्यों है?

में : हम हमारे घर में कपड़े नहीं पहनते. तुम पहले अंदर आयो, तुम्हे सब कुछ मालूम चल जाएगा.

उसके बाद हमने उसे अंदर लिया और उसने देखा कि सब लोग नंगे थे और उसके बाद में भी नंगी हो गई थी. मैंने मेरा जीन्स और टॉप उतार फेंका और अब कपिल ने भी अपने कपड़े उतार दिए. वो एक अलग ही टेंशन में थी, तो कपिल ने उसका टॉप उतारा और एक ही झटके में उसकी स्कर्ट को भी नीचे कर दिया और अब वो ब्रा और पेंटी में थी, जो मेरी ही फॅक्टरी से खरीदा था और हम सब लोग हंसने लगे. उसे तो बहुत अजीब लग रहा था तो में उसे दूसरे रूम में लेकर गयी और मैंने उसे समझाया कि मज़े करो शरमाओ मत, हम सब लोग मिलकर सेक्स करते है और आज से तुम भी इसमे शामिल हो, तुम जब चाहो आ सकती हो. तो में उसे कमरे से बाहर लेकर गई.

कपिल अपनी भाभी को चूम रहा था और मेरे पति अपनी बेटी को और मेरा बड़ा बेटा उसका इंतज़ार कर रहा था. तो मैंने एक ही जोरदार झटके में उसकी ब्रा, पेंटी को उतार दिया और मेरे बेटे ने उसे चूमना, चाटना शुरू किया और वो उसका लंड अपने हाथ में लेकर हिलाने लगी और में उसकी चूत चाटने लगी और वो मेरे बेटे को चूमने लगी और कहा तुमने तो मेरे भोसड़े का नगाड़ा सा बजा दिया.

उसके बाद वो उठी और मेरे बेटे के लंड पर बैठ गई और ऊपर नीचे होने लगी और में मेरे बेटे के मुहं पर बैठ गई और वो मेरी रसीली भोसड़ी को चाट रहा था. उसके बाद करीब दस मिनट बाद हमने अपनी पोज़िशन को बदल दिया. में लंड पर और वो मेरे मुहं पर और दस मिनट बाद वो झड़ गया. लेकिन मेरे बेटे का और मेरे पति का काम अभी बाकी था तो पहले मैंने उसको मेरे पति के लंड पर बैठा दिया और मेरी बेटी मेरी भोसड़ी को चाटने लगी. तो मेरे पास एक रबर का लंड था. तो मैंने वो पहन लिया और मेरी बेटी की चूत में डाल दिया वो करीब 9 इंच लंबा था.

उसके बाद करीब 12 मिनट बाद मेरा बेटा और पति दोनों एक एक करके झड़ गये और अब मेरी भोसड़े की हालत बहुत खराब थी और उसके बाद उस रात हमने तीन बार सेक्स किया और दूसरे दिन सुबह 11 बजे वो चली गयी और अब वो कभी भी आ जाती है और मेरे पति से चुदवाकर चली जाती है और कपिल ने मुझे यह भी बताया है कि जब आप फॅक्टरी पर नहीं होती हो तो मुझे हर हफ्ते एक नई भोसड़ी मिलती है और इस बार सिर्फ़ आपके सामने मिली और हर बार अकेले में और कभी कभी भाभी के सामने भी ज़्यादा मिलती है.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।