मुख्य पृष्ठ » ट्रेवल सेक्स स्टोरीज » मेडम की गांड में लंड


मेडम की गांड में लंड

Posted on:- 2022-11-24


कैसे है आप सब आशा है अच्छे होंगे और चुदाई के जुगाड़ में होंगे बात उन दिनों की हैं जब मैं अपने IIT  की तैयारी में तत्पर  था. सारे सीनियर अध्यापक साले अपने काम भी हम से करवाते थे, लेकिन मज़बूरी के लिए हम सब कुछ कर लेते थे. मैं वैसे मनीषा  नाम की एक चुदकड़  अध्यापक के निचे काम कर रहा था जो बहुत ही अकडू और पूरी रंडी थी. उसे सब काम समय पर और साफ़-सुथरा चाहियें होता था. मैं काम तो कर लेता था ठीकठाक फिर भी वो बेन्चोद उसमे कोई ना कोई नुस्ख निकाल देती थी. मन तो करता था की साली को पकड के उसकी पिछवाड़े  में लंड दे दूँ…..!!! तब मुझे थोड़ी पता था की उसकी पिछवाड़े  में मुझे लंड देने का सच में सौभाग्य प्राप्त होगा…..!!!मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.


 मेरे प्यारे दोस्तो चुची पिने का मजा ही कुछ और है एक दिन मनीषा  ने मुझे अपने केबिन में बुलाया और पूछा की क्या मैं IIT . में अच्छे नंबर पाना चाहता हूँ, कौन गधा होगा जो ना कहेंगा. मेरे हाँ कहते ही उसने मुझे कहा की वैसे लोग 50 हजार के ऊपर ही लेते हैं लेकिन मैं जो ठीक समझू वो दे दूँ. मेरी पिछवाड़े  फट गई. साला 50 हजार तो मैं कहाँ से ले के आता. वैसे भी बाबूजी ने मुझे IIT . तक पढाया वो उनका अहेसान था, मेरे दो भाई और थे जिनके ऊपर बाबूजी को कम से कम लागत हुई थी और वो दोनों उन्हें काम में मदद करने लगे थे…! मैंने मनीषा  मेडम को अपनी दास्ताँ सुनाई और वो थोड़ी पिघली. उसने मेरी तरफ ध्यान से देखा और बोली, तुमने खेतो में काम किया हैं कभी..? लगता तो नहीं हैं वैसा…? मैंने कहा, हाँ मैंने काम किया हैं खेतों में कितनी बार. और उसे सबूत देने के लिए मैंने जैसे ही अपनी शर्ट के बटन खोल के उसे अपने पेट के ऊपर पड़ी मसल्स मार्क्स दिखाई, उसकी जबान से लाळ टपकने लगी. वैसे मैं पतला था लेकिन मेरा एक एक मसल सुलझा हुआ और परफेक्ट शेप में था. मेडम को क्या पता पिछवाड़े  में पसीना लाना पड़ता था मसल बनाने में. ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा .


 मेरे मित्रगणों  चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है     मेडम मेरी बोड़ी देख के जैसे की बावरी हो गई, उसे क्या पता की हरियाणा के लौंडे होते ही हैं मजबूत. मेडम अपनेआप को बिलकुल रोक नहीं पाई और उसने अपना हाथ मेरे सिने के ऊपर फेरा और वहां निकले हुए छोटे छोटे बालो को अपनी उंगलियों में लिए. उसने तुरंत अपने हाथ को हटा दिया. मैंने भी फट से बटन बंध कर दी. मेडम बोली, तुम तो सही मैं ही-मेन हो….मैं एक शर्त पर तुम्हारे पैसे छोड़ सकती हूँ…तुम्हे एक बार मेरे साथ सोना पड़ेंगा…!!! साला मेडम की पिछवाड़े  में और बूर  में शायद मेरे ह्यूष्टप्यूष्ट शरीर को देख के चुदाई की खुजली होने लगी थी. वैसे मेरे लिए भी यह सौदा ठीक ही था. बूर  की बूर  और 50 हजार की बचत. मेडम ने एक कागज के ऊपर अपना एड्रेस लिख के दिया और मुझे बोला की सन्डे के दिन सुबह 11 बजे मैं उनके घर पहुँच जाऊं. क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये.


 मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है सन्डे का मैं भी बेसब्री से इन्तेजार करने लगा था, सन्डे आया और मैंने अपनी फेवरेट जींस और टी-शर्ट डाली और मेडम के घर तरफ जाने के लिए सिटी बस पकड ली. मेडम का घर ढूंढने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई क्यूंकि उसकी सोसायटी में केवल 5 घर थे और सभी पे नेमप्लेट लगा था. प्रोफ़ेसर मनीषा  पांडे, नेम प्लेट पढ़ते ही मैंने घंटी बजाई, 20 सेकण्ड के बाद दरवाजा मनीषा  मेडम ने ही खोला. वोह एक पारदर्शक साडी में सज्ज थी. साडी हलकी थी जिसे घर में पहना जा सकता था. अंदर आते ही मैं सोफे के ऊपर बैठा और मेडम ने मुझे पानी ला के दिया. मेडम जब खाली ग्लास ले के जा रही थी तब में उसकी पिछवाड़े  में पड़ती मटक को देख रहा था. मेडम की पिछवाड़े  बहुत ही चुदकड़  थी और मैं मनोमन सोच रहा था की मेडम एक बार मुझे पिछवाड़े  में मस्ती का मौका दे दे तो बहुत मजा आ जाएगा. लेकिन मेडम को पिछवाड़े  में लेने के लिए कहना उतना आसान थोड़ी ना था. मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था    .


 चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए पानी के बाद चाय भी आई और मेडम ने चाय देते समय अपने बूब्स की गली दिखा के मेरा लंड भी खड़ा किया था, उसने गली दिखाने के बाद मेरे सामने देखा था. उसे पता था की मेरी नजर भी वही थी. वोह हंस पड़ी और बोली, होंशियार हो तुम, चलो जल्दी चाय पी लो…! जैसे ही मेरी चाय खत्म हुई मेडम ने अपनी साडी को खोला और उसने पहनी काली ब्रा मुझे दीखाई. उसने अब ब्रा पेंटी को छोड़ के सभी कपड़ो को उतार दिया और वोह सोफे के पास आई और मेरी गोद में आके बैठ गई, बैठते हुए मेडम बोली…एक घंटा हैं तुम्हारे पास. मेरे पति आ जायेंगे उसके बाद. मुझे एक घंटे में जितना ठोक सकते हो ठोक डालो. मैंने तुरंत मेडम की ब्रा की हुक खोल दी. मेडम के 34 साइज़ से भी बड़े स्तन हवा में झूलने लगे और मैंने लपक के मेडम के एक निपल को मुहं में दबाया. दुसरे निपल के ऊपर मैंने अपनी एक ऊँगली के ऊपर थूंक लगा के सहलाया. मेडम ने धीरे से हाथ निचे किया और पिछवाड़े  में फंसी पेंटी को उतारा. मनीषा  मेडम की बूर  बड़ी झांटो वाली थी और बूर  का रंग घेरा गुलाबी था. मेडम के निपल्स को मैं बारी बारी चूसने लगा और मेडम भी मेरे लंड को पेंट के ऊपर से जोर जोर से दबा रही थी. मेरा जाट लंड बूर  और पिछवाड़े  में जाने के लिए बिलकुल तैयार था. साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है.


 अब सुनिए चुदाई की असली कहानी मेडम ने मेरी पेंट खोल दी थी और मेरा लंड अब मेडम के हाथ में झूल रहा था. मैंने मेडम के दोनों स्तन के निपल्स को चूस चूस के लाल कर दिया था और मेरी ऊँगली अब उनकी झांटोवाली बूर  को खुजा रही थी. मेडम की बूर  से तुरंत ही रस टपकने लगा था. मेडम अब बहुत कामुक हो चुकी थी और उसने मुझे कस के पकड़ा हुआ था. मैंने मेडम के होंठो से अपने होंठ लगा दिए और एक जोर का चुम्मा ले लिया. मेडम मुझे कस के चूस रही थी और साथ साथ में मेरे लंड को जैसे की मुठ मार रही हो वैसे हिला रही थी. मेडम को मैने कंधे से पकड़ा औ उसे उल्टा लिटा दिया. मनीषा  मेडम की पिछवाड़े  में हलके हलके बाल निकले हुए थे जिसे उसने वेक्स करके निकाले हुए थे लेकिन फिर भी कुछ बाल मुझे दिख रहे थे. मैंने अपने फडफड होते लंड को सीधे मेडम की बूर  के ऊपर रख दिया और मैंने पीछे से मेडम की पिछवाड़े  में ऊँगली करने लगा. पिछवाड़े  में ऊँगली करने से मेडम ऊँची नीची हो रही थी और हलके हलके मुस्कुरा रही थी. मैंने अपने लंड को मेडम की बूर  के होंठो पर रखा और सीधे एक झटके में पेल दिया. मेडम जोर से आह करने लगी. मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया.


 वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों   मनीषा  मेडम अपनी पिछवाड़े  वाला हिस्सा हिला हिला के मेरे लंड के झटके अपनी बूर  के अंदर ले रही थी. मैंने भी अपने मसल्स की सारी एनर्जी मेडम की चुदाई में लगा दी. मैं पसीने से तरबतर हो गया था लेकिन मेडम की बूर  इतनी रसीली थी की मुझे थकान का बिलकुल भी अहेसास  नहीं हुआ. मेडम के कमर के ऊपर अपने दोनों हाथ रखे हुए मैं उसकी बूर  के अंदर से जैसे की खेत में हेंडपम्प से पानी निकालते है बिलकुल वैसे उसकी बूर  का रस निकाल रहा था. मेडम की बूर  का रस मेरे लंड के उपर झाग के स्वरूप में चिपका हुआ था. मेडम को भी मेरे लंड से बहुत मजा आ रही थी तभी तो वो अपनी बूर  के मसल्स जोर से दबाती थी और मेरे लंड को बहुत मजा कराती थी. मैंने मेडम की बूर  को दस पन्द्रह तक मस्त चोदा. मुझे मेडम की पिछवाड़े  की चुदाई करने की बहुत इच्छा थी. मैंने मेडम की पिछवाड़े  के ऊपर अपने थूंक का एक जथ्था लगाया और उसे मलने लगा. मेडम भी समझ गई की पिछवाड़े  में हमला होने वाला हैं. मेडम पिछवाड़े  के अंदर सही तरह से लौड़ा लेने के लिए उलटी लेट गई और उसने अपने दोनों हाथ से पिछवाड़े  को फैला दिया. मेडम की पिछवाड़े  का छेद हल्का काले रंग का था और देखते ही उसके अंदर लंड देने की इच्छा जाग्रत हो चुकी थी. मैंने मेडम की पिछवाड़े  के अंदर जैसे ही लंड घुसेड़ने लगा मेडम की आह अह ओह चालू हो गई जो पिछवाड़े  में पूरा लंड देने तक चालू रही. मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया वहा जबरजस्त माल भी थी मेरे मित्रगणों . 


 मेरे मित्रगणों  चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया जैसे ही मैंने पिछवाड़े  के अंदर पूरा लंड दे दिया मेडम ने भी अपनी पिछवाड़े  को टाईट कर दी. मुझे मेरे लंड के ऊपर बहुत प्रेशर आ रहा था क्यूंकि मेडम ने पिछवाड़े  को मस्त टाईट रखा था और वोह आगे पीछे भी होने लगी थी…क्या सभी बड़ी उम्र की आंटी और भाभियाँ पिछवाड़े  में लेने की सौकीन होती हैं…..!!! मैंने अभी तक मेरे से बड़ी चार पांच स्त्रियों के साथ सहवास किया था और मेरे पिछवाड़े  मारने का प्रतिशत सो फीसदी ही रहा था. मनीषा  के झटके और दबाव के चलते मेरे लंड के ऊपर अजब कसाव महसूस हो रहा था. मैंने उसकी पिछवाड़े  को दोनों हाथ से दोनों तरफ से पकड़ा और मैंने ऊँचा हो होक उसके पिछवाड़े  में अपने डंडे को पेलने लगा. मनीषा  मेडम आह आह ओह ओह करती रही और साथ साथ मेरे लंड से मजे लेती रही. कुछ दस मिनिट की पिछवाड़े  सम्भोग होने के बाद मेरे लंड से वीर्यरस निकल गया और मैंने सारा के सारा रस मेडम की पिछवाड़े  में ही छोड़ दिया….!ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मेरे मित्रगणों .


 मेरे मित्रगणों  एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया चुदाई के बाद मैं कपडे पहन रहा था तभी मनीषा  मेडम ने निचे बैठ के मेरे लंड को एक बार और चूस लिया. मैंने भी जोर जोर से उसके मुहं में ही उसे चोद दिया. उसका पति किसी भी वक्त आ सकता था इसलिए मैंने तुरंत वहां से निकल गया. इस दिन के बाद तो मनीषा  मेडम ने कितनी बार मेरे लंड को अपनी बूर  में और पिछवाड़े  में लिया हैं. मेरे लिए भी हजारों रूपये जुटाना मुश्किल हैं इसलिए मैं टीचर बनने के लिए मेडम की चुदाई कर के उसे खुश रख रहा हूँ…….!!!क्या बताऊ मेरे मित्रगणों  मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है मेरे मित्रगणों  एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।