मुख्य पृष्ठ » अन्तर्वासना स्टोरीज » सहेली के पति ने पूरी रात हवस की प्यास बुझाई


सहेली के पति ने पूरी रात हवस की प्यास बुझाई

Posted on:- 2024-03-02


दोस्तों, मेरा नाम गोविन्द बांगरे है। यह कहानी मेरे भोले भाले दोस्त निखिल की है। जो दिल्ली में रहता है, अब मैं आपको उस औरत की कहानी सुनाता हूँ। यह कहानी एक औरत की ऐसी antarvasna sex story है।  जिसकी हवस गैर मर्द ने बुझाई। जब कामुक स्त्री को अपने पति से सेक्स संतुष्टि नहीं मिलती तो वह अपनी सहेली के पति के साथ पूरी रात रात भर अपनी हवस की प्यास बुझाई।

एक दिन  निखिल अपनी पत्नी की सहेली काम्या के घर खाना खाने गया।

वहां काम्या ने उसे अपने घर में रहने के लिए मना लिया।

अगले दिन सुबह काम्या ने रंजना से कहा- मैंने जीजाजी को यहीं रुकने के लिए मना लिया है, तुम भी बताओ. कहा बाहर खाना खाना है, रात के समय बाहर खाना भी ठीक नहीं है।

रंजना बोली- तुम्हें दिक्कत होगी, एक दो दिन की बात नहीं है। पता नहीं कितने दिन लग जायेंगे।

काम्या बोली- जब तक वह यहां रहेगा, मेरी जिंदगी मुस्कुराती रहेगी. अन्यथा, आप पहले से ही जानते हैं।

तभी काम्या ने निखिल को फोन किया- मैं आपका लंच लेकर ऑफिस आ जाऊंगी। यदि आप सामान ले जाएं तो मैं इसे अपने साथ ले जाऊंगा। तुम रात को सीधे घर आ जाना।

निखिल हंसते हुए बोला- आप तोआधी घरवाली की तरह आदेश देती हो या पूरी घरवाली की तरह? तो मैं इससे कैसे बच सकता हूँ?

काम्या निखिल का सामान ले आई और कोठी के बाहरी हिस्से में गेस्ट रूम का नवीनीकरण करवाया।

जब काम्या ने यह सब बात अनुज को बताई तो वह बहुत खुश हुआ।

काम्या ने कहा- जब जीजाजी यहाँ होंगे तो तुम्हें उनके साथ खाना खाना चाहिए और जब तक वो यहाँ हैं, तुम्हें चिल्लाना नहीं चाहिए।

अनुज मुस्कुराए और बोले- मैं कल नाश्ता करूंगा, डिनर का तो मुझे पता ही नहीं. हाँ, अब कोई झगड़ा नहीं होगा, तुम भी मुझे नहीं टोकोगे।

रात को निखिल जल्दी आ गया।

अनुज नहीं आये.

काम्या ने रंजना से निखिल की पसंदीदा डिश बनाने को कहा।

निखिल ने बार-बार खाने की तारीफ की।

खाना खाने के बाद निखिलअपने कमरे में चला गया, उसे ऑफिस का कुछ काम करना था।

रात को जब अनुज आया तो काम्या ने अपनी आदत के अनुसार उससे खाने की जिद की तो अनुज ने केवल एक रोटी खाई और उठ गया। अनुज को अपने काम के अलावा अपनी पत्नी की कामुकता का बिलकुल खयाल नहीं था।

काम्या अच्छी तरह से तैयार थी। इसलिए वह चाहती थी कि अनुज उसके साथ बिस्तर पर सेक्स करे!

लेकिन अनुज नशे में थे।

काम्या ने पहल करते हुए अपने और अनुज के कपड़े उतार दिए और उसे उत्तेजित करने के लिए उसका लंड मुँह में लेकर चूसने लगी।

लेकिन अनुज के उत्साह में कोई खास फर्क नहीं पड़ा।

 

अनुज उसके बड़े स्तनों की बहुत तारीफ करता था इसलिए काम्या ने अपने स्तन उसके मुँह में भर दिये और अनुज के ऊपर लेट गयी!

 

अब अनुज का लंड थोड़ा टाइट हो गया था, काम्या ने इसे अपनी किस्मत समझकर अपने हाथ से उसके लंड को अपनी चूत में डालने की कोशिश की.

लंड बार बार फिसल कर बाहर निकल जाता.

अनुज भी बेबस हो रहे थे।

आख़िर उसने काम्या को लिटाया और काम्या की मदद से अपना लंड उसकी फांकों के बीच घुसा दिया और धक्के लगाने की कोशिश करने लगा!

लेकिन पेलम इससे ज्यादा बर्दाश्त नहीं कर पाया, वो झट से काम्या के बगल में गिर गया और सो गया।

 

हमेशा की तरह काम्या कसमसाती रही और आख़िरकार अपने वाइब्रेटर की मदद से खुद को शांत किया।

लेकिन आज जब वो वाइब्रेटर कर रही थी तो उसके दिमाग में निखिल का मुस्कुराता हुआ चेहरा था। उसकी अंतर्वासना बार बार उसकी तरफ खींच रही थी।

 

एक दो दिन तो ऐसे ही निकल गये।

निखिल भी बहुत खुश था।

 

काम्या रंजना को फोन करके निखिल की पसंद-नापसंद के बारे में पूछती थी, फिर वह उसकी पसंद के हिसाब से खाना बनाती थी।

 

अब काम्या को खाना बनाना और अच्छे कपड़े पहनना अच्छा लगने लगा।

कोई तो होता जो अब उसकी तारीफ करता.

 

एक रात अचानक मौसम खराब हो गया. बादल जोर से गरजे।

 

अनुज तो नहीं आये लेकिन उनके एक दोस्त का फ़ोन आया कि अगर मौसम अच्छा नहीं हुआ तो वो अनुज को अपने यहाँ सुला लेंगे.

तो काम्या ने भी इस बात पर सहमति जताई कि वहीं सोना बेहतर है क्योंकि बारिश में यहां गाड़ी चलाना खतरनाक है.

 

बादल की गड़गड़ाहट के कारण काम्या घबरा रही थी इसलिए वह गेस्ट रूम की ओर चल दी।

निखिल जाग रहा था।

 

काम्या ने छोटी नाइटवियर पहनी हुई थी।

अब वह निखिल से काफी घुलमिल गई थी इसलिए कोई पर्दा नहीं था।

 

निखिलभी सैंडो बनियान और हाफ नेकर में था.

निखिल इस समय काम्या को यहाँ देखकर चौंक गया। और उसके मन में चोदने का भुत लगा।

 

तो काम्या ने सब कुछ बताया और कहा कि उसे अकेले रहने में डर लगता है इसलिए वह उसे बुलाने आई थी कि चलो वहाँ आओ और कॉफी पीते हैं।

निखिलने उससे कहा कि अब तो वह आधी से कुछ ज्यादा गृहिणी बन गई है तो ‘आप’ के साथ यह औपचारिकता क्यों। हम दोस्त बनकर आपके पास क्यों नहीं आते?

 

काम्या ने मुस्कुराते हुए कहा- तो दोस्तों के तौर पर गले भी लगाया जा सकता है।

निखिलने अपनी बाहें फैला दीं और काम्या उसकी बांहों में लिपट गई।

 

तभी निखिल को उसकी नुकीली चुचियों , गुदगुदे बदन की गर्मी महसूस हुई और उसके शरीर में कामुकता दौड़ गई।

उसने आगे बढ़ कर काम्या को चूम लिया और पूछा- तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा? लेकिन पहली बार मिलने कारण निखिल का गला सूख रहा था और घबराहट से हाँथ पैर काँप रहे थे। लेकिन यह सब काम्य को महसूस नहीं होने दे रहा था।

काम्या ने पलट कर उसके होठों को चूम लिया और बोली- तुम्हारे आने से मुझे मुस्कुराने का मौका मिला है। इसलिए मैं तुम्हारी बात का बुरा नहीं मानूंगी।

 

लंड सीकारे भर रहा था।

खैर, वह काम्या के साथ आया और उसका हाथ पकड़ लिया।

काम्या कॉफ़ी बनाने गई थी, बस गर्म दूध डालना था।

 

उसने तुरंत कॉफ़ी परोसी।

दोनों बिस्तर पर बैठ कर कॉफ़ी पीने लगे।

 

आज निखिल ने काम्या को अकेले देखा।

काम्या और उसके पैर एक दूसरे से छू गए। काम्या के सफ़ेद मखमली पैरों पर लाल रंग का नेल पेंट बहुत चमक रहा था।

 

तभी काम्या ने निखिल की नजरों को टटोलते हुए धीरे से पूछा- जीजाजी, आप क्या सोच रहे हैं?

निखिलने काम्या का हाथ धीरे से सहलाते हुए कहा- कुछ नही।

 

काम्या सरक कर निखिल के करीब आई और उसकी आंखों में देखकर बोली- सच बताओ, क्या तुम भी वही सोच रहे हो जो मैं सोच रही हूं?

एक बार फिर बादल जोर से गरजा, लाइटें बुझ गईं और कमरे में अंधेरा हो गया।

 

निखिल ने काम्या को अपनी ओर खींच लिया और उसको अपनी बाहों में जकड़ लिया।

 

तो जब उनके शरीर एक-दूसरे से लिपटे हुए थे, उनके होंठ मिले थे, सारे बंधन टूट गए थे और दो जलते हुए शरीर एक होने को आतुर थे।

काम्या बेल की तरह निखिलसे लिपटी हुई थी और बिस्तर पर बैठे निखिलने अपने पैर फैलाकर काम्या को अपनी बांहों में पकड़ लिया.

 

काम्या ने अपने दोनों हाथों से निखिल का चेहरा पकड़ लिया और उनके होंठ टकरा गए और जवान एक दूसरे के मुँह में घुसने के लिए ज़ोर लगाने लगे।

निखिल का हाथ काम्या की जांघों की ओर बढ़ा फिर उसके सीने की तरफ।

 

उसे अब एहसास हुआ कि उसके नुकीले स्तन बिना ब्रा के थे, इसलिए वे उसकी छाती पर दब रहे थे।

 

उसके स्तनों को पकड़ कर मसलते हुए निखिल ने अब काम्या को पीछे धकेल कर लिटा दिया.

काम्या के लेटते ही निखिल ने उसका टॉप ऊपर उठाया और अपना मुँह उसके गोल मांसल स्तनों पर रख दिया।

 

काम्या बहुत दिनों से अपने बूब्स को ऐसे चुसवाने की प्यासी थी… उसने अपना टॉप उतार फेंका और निखिल की बनियान उतार कर उससे चिपक गई!

 

निखिल उसके खूबसूरत मखमली शरीर से चिपक गया, उसका लंड बाहर आने को बेताब था।

 

अचानक काम्या का हिलता हुआ लंड उसके हाथ में आ गया.

काम्या ने उसे पकड़ लिया और बैठते ही निखिल का गला दबा दिया और लंड बाहर निकाल कर अपने मुँह में पकड़ लिया!

निखिल का लंड पूरा खड़ा होकर काम्या के मुँह में लपर लपर घूम रहा था. उसने उसके बूब्स को मसला.

अब निखिल ने अपना हाफ नेकर उतार दिया और काम्या का दुपट्टा भी उतार दिया.

काम्या ने पैंटी पहन रखी थी जो अब आगे से गीली हो चुकी थी।

जैसे ही निखिल ने अपनी उंगलियों से पैंटी की इलास्टिक को छेड़ा, काम्या ने कांपते हुए अपनी पैंटी उतार दी.

अब दोनों बिल्कुल नंगे थे और एक दूसरे से चिपके हुए थे.

निखिल काम्या की चूत चूसना चाहता था इसलिए उसने काम्या के कान में फुसफुसाकर पूछा- क्या तुम्हें चुसवाना पसंद है?

काम्या ने तुरंत अपनी टांगें चौड़ी कीं और निखिलके बाल पकड़ कर उसका सिर नीचे कर दिया.

निखिल नीचे सरका और उसने अपना चेहरा काम्या की दरार के बीच रख दिया।

आज काम्या पूरी तरह से तैयार होकर बिस्तर पर आई थी, उसकी चूत रेशम जैसी चिकनी थी। शायद उसने आज अपने प्रेमी के लिए खुद ही सफाई की थी.

 

जैसे ही निखिल ने उसके पैरों को जितना संभव हो उतना फैलाया, काम्या ने भी अपने प्रेमी की जीभ को अंदर तक जाने के लिए अपने हाथों से अपनी फांकों को खोल दिया।

काम्या की कामुक आह निकल रही थी।

पूरा कमरा अहह उन्ह अहह उन्ह    की आवाजों से गूंज रहा था।

अब काम्या भी लंड का स्वाद चखना चाहती थी इसलिए दोनों आमने सामने हो गईं और एक दूसरे को अनोखा मजा देने लगीं.

रंजना चाहे कितनी भी सेक्सी क्यों न हो लेकिन आज जो मजा काम्या को आया था और काम्या के शरीर से जो आग निकल रही थी, वह निखिल के लिए स्वाभाविक आनंद जैसा था।

 

काम्या के अनुभव का भी यही हाल था।

अनुज के साथ प्यासी जिंदगी जी रही काम्या के लिए मानो आज रात उसकी जिंदगी में सावन की बारिश हो गई हो.

अब दोनों एक दूसरे में समा जाने को आतुर थे।

जब काम्या नीचे हुई तो निखिलने उसकी टांगें फैला दीं और एक ही झटके में अपना लंड अन्दर डाल दिया!

इससे काम्या की चीख निकल गई लेकिन उसने निखिल को कस कर गले लगा लिया।

उसके लम्बे नाखूनों से निखिल की पीठ पर लम्बे खरोंच के लाल लाल निशान बन गये।

अब निखिल ने अपनी कमर की चाल तेज कर दी।

काम्या ने उसका पूरा साथ दिया; ऐसा लग ही नहीं रहा था कि वो जीजा और साली हैं. ऐसा लग रहा था जैसे वर्षों से बिछड़े प्रेमी-प्रेमिका या पति-पत्नी अपना हनीमून मना रहे हों!

निखिल के हाथ काम्या के स्तनों पर थे और वह जोर-जोर से काम्या की चूत में लन्ड के धक्के मार रहा था।

काम्या भी जी भर कर चोदने में मस्त थी।

वह निखिल से छुटकारा पाना चाहती थी।

 

उसने निखिल को हटाने की कोशिश की तो निखिल गिड़गिड़ाते हुए बोला- नहीं यार, इस वक्त इसे मत हटाओ, बहुत मजा आ रहा है. मेरा झड़ने वाला है, बताओ मैं कहाँ से लाऊँ?

काम्या बोली- अन्दर ही झाड़ दो.

 

लेकिन जब निखिल के दिमाग में रंजना के गर्भवती होने का दृश्य आया तो वह धड़ाम से बाहर आया और अपना सारा माल काम्या के पेट पर झाड़ दिया।

 

काम्या ने शिकायत की- मैंने तुम्हें अन्दर ही झाड़ने को कहा था, तुम बाहर क्यों आये?

निखिल बोला- नहीं, कहीं कुछ ग़लत हो गया तो?

काम्या ने हँसकर कहा- आजकल मुझे यकीन है।

निखिल उसके बगल में लेट गया। मुझे मासिक धर्म हुए कई दिन हो चुके है।

 

काम्या दूसरे मर्द के साथ सेक्स करके बहुत खुश थी। आज इतने दिनों में पहली बार हवस की प्यास बुझी।

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।