मुख्य पृष्ठ » रंडी की चुदाई » सोनिया रंडी गोवा में – [Part 1]


सोनिया रंडी गोवा में – [Part 1]

Posted on:- 2023-12-16


नमस्कार साथियों दोस्तों, मैं सोनिया, आपके लिए एक स्टोरी लेकर आई हूँ. दोस्तों ये घटना मेरे साथ 2019 में दिसम्बर में हुई, जब क्रिसमस की और न्यू ईयर की छुट्टियाँ थी. तो दोस्तों हमने सोचा कि क्यों ना इस बार कुछ अलग टाईप की मस्ती की जाए? तो क्या था? में अकेले ही गोवा निकल पड़ी. वहाँ आप नंगे भी घूमो तो कोई दिक्कत ही नहीं है और मुझे तो कपड़े पहनना वैसे भी पसंद नहीं है. तो दोस्तों में 22 दिसम्बर को नाईट में अपने रिज़ॉर्ट पहुँची और हमने पहले ही अपना रूम बुक करा लिया था. मित्रों ये कहानी आप देशीअडल्टस्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं. मित्रगणों, जैसे ही में रूम में अंदर गई तो हमने दरवाजा बंद किया और एक लंबी साँस ली, ओह माई गॉड, अब में गोवा में थी. इसके बाद हमने अपना गाउन उतारा और अपनी चड्ढी भी उतार कर साईड में फेंक दी. इसके बाद हमने टावल लिया और वॉशरूम में चली गयी, वहाँ के शीशे में अपने नंगे बदन को देखकर में अपने आपसे ही जलने लगी और अपने प्राइवेट पार्ट्स को सहलाने लगी और शॉवर चालू कर दिया. ओह माई गॉड अब मेरे गर्म जिस्म पर ठंडा-ठंडा पानी हमारी प्यास को और बढ़ाने लगा था. अब हमारी उंगलियाँ अपने आप ही हमारी सेक्सी चूत की तरफ चली गई और उसे सहलाने लगी. अब मेरे मुँह से सिसकियां निकलने लगी आह आह आह फुक मी दोस्तों आह, क्योंकि में यहाँ पर अपनी पसंदीदा पोज़िशन में चुदने आई थी, लेकिन पता नहीं कैसे में एक साथ तीन मर्दो से चुदूंगी? मुझे पता नहीं था, लेकिन ये पता था कि में चुदूंगी ज़रूर. वह दिन आज भी मुझे याद है. इसके बाद मैं अपनी उंगलियों से अपनी चूत को चोदने लगी और न जाने क्या-क्या बोलने लगी? आह फुक, फुक मी, ओह यस, कीप फुक्किंग मी, आह आह आह आह ओह माई गॉड, फुक मी आह, यस आ आह आह फुक मी. अब मानों में सपने में अपनी पसंदीदा स्टाइल में चुद रही हूँ, तभी हमारी चूत से वीर्य निकला और में झड़ गई. ओह माई गॉड, पता ही नहीं चला कि रात के 1 बज़ गये, इसके बाद में नंगी ही बेड पर लेटी रही, लेकिन मुझे नींद ही नहीं आ रही थी, क्योंकि ये चूत तो लंड माँग रही थी, लेकिन रात के 2 बज़े कौन हमारी प्यास बुझाता? तभी हमने सोचा कि चलो कहीं घूमकर आते है, लेकिन इसके बाद डर लगा और सोचा कि ज्यादा से ज्यादा क्या होगा? जो होगा वही करने के लिए तो में यहाँ आई हूँ. इसके बाद पहले तो हमने सोचा कि क्यों ना नंगी ही घूमकर आऊं? लेकिन इसके बाद हमने अपनी वही ब्रा और पेंटी जो साईड में पड़ी थी, वो पहनी और अपनी सैंडल पहनकर चल पड़ी. अब होटल से बाहर निकलकर में चलने लगी. इसके बाद करीब 10 मिनट तक चलने के बाद मुझे एक बीच सा दिखाई दिया जहाँ दूर-दूर तक कोई नहीं दिख रहा था, तो हमने सोचा कि इस ब्रा और पेंटी को भी अलग कर दूँ और हमने उन्हें अपने हेण्डबैग में उतार कर रख लिया और में वहाँ दौड़-दौड़कर जैसे कोई परी उड़ रही हो उड़ने लगी और में कहीं खो गई. मेरे गद्देदार चूतर अलग से दिखाई देते है. तभी अचानक एक रोशनी सी आई, इसके बाद हमने एक बाइक को आता देखा तो में डर गई और सोचा कि कपड़े पहन लूँ, लेकिन इसके बाद सोचा कि हटाओ देखा जायेगा, देखते है किस्मत वाला कौन है? तभी वो बाइक मेरे पास आकर रुकी और उसने मुझे बुलाया, जब करीब 4 बजे थे और सुबह का टाईम था. इसके बाद में पास गई, वो हेलमेट पहना हुआ था, लेकिन उसकी ड्रेस पुलिस वाली थी. में समझ गई और डर भी गई. तभी उसने अपना हेलमेट उतारा और मुझे देखा तो देखता ही रह गया और वो मेरे 36 इंच के बूब्स को निहारने लगा. तभी हमने कहा कि क्या हुआ सर? तो उसने कहा कि तुम यहाँ बिना कपड़ो में क्या कर रही ही? तो हमने कहा कि सर मुझे नींद नहीं आ रही थी तो सोचा कि थोड़ा घूम आऊं. इसके बाद उसने कहा कि कुछ पहन तो लेती और वैसे ही गोवा का माहौल अच्छा नहीं है, कुछ हो जायेगा तो अभी रिपोर्ट लिखवाने आ जाओगी. इसके बाद उसने पूछा कि कपड़े कहाँ है? हमने झूठ कह दिया कि सब तो रूम में ही है. इसके बाद उसने कहा कि कुछ देर में यहाँ लोग आ जायेंगे, तो क्या करोगी? तो हमने उसे ऐसे दिखाया कि जैसे में डर गई हूँ. तब उसने बोला कि इससे पहले कोई आ जाए आप यहाँ से अपने रूम में चली जाओ. इसके बाद हमने कहा कि सर में आज ही गोवा आई हूँ और मुझे सही से रास्ता भी नहीं पता. तो उसने पूछा कि तुम्हारा कौन सा होटल है? इसके बाद हमने होटल का नाम बताया, तो उसने कहा कि में आपको छोड़ सकता हूँ. इसके बाद हमने सोचा कि यही चुदने का अच्छा मौका है. इसके बाद में उसके पीछे बैठने लगी, तो उसने कहा कि रूको और अपनी पुलिस वाली शर्ट उतारकर मुझे दे दी. ओह माई गॉड जब उसने अपनी शर्ट उतारी तो में उसके सिक्स पैक्स देख सकती थी. अब उसके पैक्स देखकर तो हमारी चूत पागल हो गई थी. अब हमने ना चाहते हुए भी उसकी शर्ट पहनी और पीछे बैठ गई. अब में उससे चिपक कर बैठी थी और जब भी वो ब्रेक लगाता तो मेरे बड़े बड़े सेक्सी बूब्स उसकी पीठ से टकराते. अब मुझे बहुत मज़ा आने लगा था और ऐसा कई बार हुआ. तभी उसने अचानक से बाइक रोकी और कहा कि लो मेडम आपका रिज़ॉर्ट आ गया. तो इसके बाद हमने कहा कि मेरा नाम सोनिया है, आपका नाम क्या है? तो उसने अपना नाम राज बताया. इसके बाद हमने उससे कहा कि आप मेरे रूम में आइए ना कॉफी या चाय कुछ लेंगे, तो उसने कहा कि सॉरी मेम में लेट हो रहा हूँ शायद उसे कहीं जाना था. इसके बाद हमने कहा कि में आपका शुक्रिया अदा कैसे करूँ? तो उसने कहा कि आप हमारी शर्ट दे दीजिए, शायद उसे पुलिस स्टेशन जाना था. इसके बाद हमने शर्ट के बटन खोलने स्टार्ट कर दिए और अब में उसकी आँखों को देख रही थी. अब वो मेरे जिस्म को मानो अपनी आँखों से नोच रहा हो और इसके बाद हमने उसे जाकर शर्ट दी और नंगे ही उसके होंठो पर एक किस की और थैंक्स कहा और उससे कहा कि मेरा रूम नंबर 105 है. इसके बाद में चली गई और मुझे पक्का विश्वास है कि वो हमारी चूत को निहारने के बाद ही वापस गया होगा. अब में अपने रूम में जा कर नंगी ही सो गई और इसके बाद में करीब 12 बज़े उठी. अब मुझे बहुत भूख लगी थी तो हमने होटल सर्विस को कॉल किया और सैंडविच ऑर्डर किया. कुछ ही मिनट में दरवाजे की बेल बज़ने लगी. अब में नंगी ही थी तो हमने टावल पहना और दरवाजा खोला, तो देखा सैंडविच के साथ वेटर हाज़िर था. इसके बाद हमने कहा कि अंदर रख दो, तो वो रखकर जाने लगा. उसका नाम सुरेश नाम था, हमने उसकी नेम प्लेट पर देखा था, इसके बाद हमने उसे पर्स से 100 रुपये निकाल कर टिप दी और एक स्माइल भी दी, इसके बाद वो चला गया. इसके बाद हमने नाश्ता किया और सोचा कि कुछ नई ड्रेस खरीद लूँ, क्योंकि गोवा के हिसाब के कपड़े में दिल्ली में नहीं पहन सकती थी, तो हमने एक स्कर्ट और टी-शर्ट पहनी और शॉपिंग करने चली गई. अब में चड्ढी पहनना भूल गई थी, लेकिन चिंता कि कोई बात नहीं थी. इसके बाद में एक शोरुम में गई, हमने थोड़ा नीचे तक की स्कर्ट पहनी थी, नहीं तो आज हमारी चूत दार्शनिक स्थल बन जाती. अब शॉप में हमने एक ड्रेस देखा जो कि एक ब्रा और पेंटी थी, उसे नाइलॉन बिकनी बोलते है मुझे ये चाहिए थी और हमने ब्लेक कलर में वो ले ली. अब में उसमें एक सेक्सी रंडी लगती, लेकिन ग़लती से में साईज़ देखना भूल गई और में रूम में आकर उसे ट्राई करने लगी. इसके बाद हमने पहले पेंटी पहनी तो उसने आगे सिर्फ़ हमारी चूत को कवर किया और उसके बाद मानो एक रस्सी बस, अब आप लोग समझ गये होंगे, लेकिन अब प्रोब्लम ये थी कि ब्रा शायद छोटी थी तो हमने सोचा कि जा कर वापस कर दूँ, लेकिन मुझे देखना था कि में इसमें कैसी दिखती हूँ? और इसके लिए में कुछ भी करने को तैयार थी. इसके बाद हमने सोचा कि क्यों ना सुरेश को बुला लूँ? वो शायद हुक भी सही से लगा देगा और उसे कुछ पैसे भी दे दूँगी, तो किसी को पता भी नहीं चलेगा. अब हमने होटल सर्विस को कॉल किया और एक वाईन की बोतल ऑर्डर की और कहा कि प्लीज़ सुरेश को ही भेजे और वैसा ही हुआ. इसके बाद हमने दरवाजा खोला और वो मुझे देखकर देखता ही रह गया. तभी हमने बोला कि सुरेश इसे अंदर रखो और हमने दरवाजा बंद कर दिया और उसे बैठने को कहा और उससे बोला कि तुम वाईन पीते हो, तो उसने बोला मेम साहब ग़रीब वाईन क्या पियेगा? में बियर से ही काम चला लेता हूँ. इसके बाद हमने उसे एक गिलास बनाने को कहा और उससे बोला कि मेरा एक काम करोगे, तो उसने हाँ बोल दिया. इसके बाद हमने कहा कि ये देखो ना हमने नई ब्रा खरीदी है, लेकिन ये बहुत टाईट है, क्या तुम मुझे पहनाने में हमारी मदद करोगें? तुम सिर्फ़ बैक वाला हुक लगा देना. उसने ओके बोला और इसके बाद हमने अपनी टी-शर्ट उतारी, अब हमारी नंगी पीठ उसके सामने थी. अब हमने ब्रा पहनी और उससे हुक लगाने को कहा, ओह माई गॉड वो ब्रा मेरे बड़े बूब्स के लिए बहुत टाईट थी. लेकिन उसने हुक लगा ही दिया और इसके बाद में पलटी और अपने आगे के भाग को ठीक किया. अब में उसकी पेंट में एक सांप देख रही थी. अब मेरे अंदर की रंडी जाग गई थी और में हर हाल में सुरेश से चुदना चाहती थी, तभी में उसके पास गई और उससे पूछा कि क्यों सुरेश में कैसी लग रही हूँ? तो वो बोलते हुए लड़खड़ा रहा था. इसके बाद में जाकर सोफे पर बैठ गई और अपनी दोनों टांगो को उठाकर अपनी पेंटी को उतार दिया और उससे कहा कि सुरेश देखो ना ये हमारी चूत कब से तड़प रही है, प्लीज़ इसकी प्यास बुझा दो. अब वो पागलों की तरह हमारी गीली चूत को घूर रहा था और अब हमारी नशीली आँखों के जादू ने उसे मज़बूर कर दिया था और इसके बाद वो मेरे नीचे आकर हमारी सेक्सी शेव चूत को चूमने लगा. ओह माई गॉड, वो ऐसे चाट रहा था जैसे कि उसने पहली बार कोई चूत देखी हो, उसका पूरा थूक हमारी चूत को और गीला कर रहा था. इसके बाद वो मुझे अपनी जीभ से चोदने लगा आह आह आह आह ओह सुरेश फुक मी, आह चोदो मुझे सुरेश, में बहुत प्यासी हूँ, चोद दो मुझे, में रंडी हूँ सुरेश, प्लीज़ फक मी. इसके बाद कुछ देर के बाद में उठी और उससे बैठने को कहा और हमने उसकी पेंट को उतारा और उसकी चड्डी को भी उतार दिया और इसके बाद तो में पागल हो गई. उसका लंड ज्यादा बड़ा तो नहीं था, लेकिन मोटा था. अब में उसके सुपाड़े पर किस करने लगी आह और इसके बाद हमने उसके लंड के चारों तरफ अपने होंठो का चुंबन दिया और अपने मुँह के अंदर बाहर करने लगी. अब उसका लंड छोटा होने के कारण में उसका पूरा लंड अपने मुँह में आसानी से अंदर तक ले सकती थी. अब वो तो सिसकारियां मार रहा था, ओह माई गॉड पता ही नहीं चला कि कब वो मेरे मुँह में ही झड़ गया. इसके बाद हमने कहा कि सुरेश प्लीज़ मुझे चोदो और में उसके लंड को पकड़कर अपनी चूत में डालने लगी. अब मुझे थोड़ा दर्द हुआ, लेकिन ज्यादा नहीं क्योंकि में पहले से ही इससे बड़े लंड खा चुकी हूँ. इसके बाद में उसके लंड के ऊपर कूदने लगी और अब वो मेरे बड़े-बड़े बूब्स को अपने हाथों से सहला रहा था. वो कभी-कभी उन्हें चूसता भी. ओह दोस्तों क्या बताऊँ? मुझे ये तो पता था कि में गोवा में चुदूंगी, लेकिन एक वेटर से, ये नहीं सोचा था, लेकिन दोस्तों लंड तो आख़िर लंड ही है ना, अमीर ग़रीब से क्या मतलब? अब में घोड़ी बन गई थी और वो मुझे पीछे से चोदने लगा था. अब मुझे कुछ दर्द भी हो रहा था, लेकिन दोस्तों मज़ा भी आ रहा था. अब वो बहुत तेज-तेज झटके दे रहा था. इसके बाद कुछ देर तक चोदने के बाद वो हमारी चूत के अंदर ही झड़ गया. दोस्तों ये तो हमारी दिन में चुदाई थी. इसके बाद में नंगी ही बेड पर सो गई और हमारी चूत से सुरेश का वीर्य गिरकर वहीं पर सूख गया था. अब हमारी हिम्मत इतनी नहीं थी कि चुदाई के बाद में अपने आपको साफ कर लूँ. इसके बाद करीब रात में अचानक हमारी नींद खुली तो हमने देखा कि 8 बज़ रहे थे. तभी अचानक मेरा दरवाजा खुला, तो हमने देखा कि ये तो राज है, वही पुलिस ऑफीसर. इसके बाद हमने सोचा कि अब ये बिना लॉक किए दरवाजा खोलकर आया है, तो में सोने का नाटक करने लगी. उसने मुझे देखा और अपने कपड़े उतारने लगा. अब में चुपके चुपके उसकी हॉट बॉडी को निहार रही थी, अब वो पूरा नंगा हो गया, उसका लंड 9 इंच का था. अब वो वाईन की बोतल जो वहाँ टेबल पर रखी थी, वो उससे वाईन पीने लगा और कुछ वाईन हमारी चूत के ऊपर डाल दी और हमारी चूत पर सूखे हुए वीर्य को उसने वाईन से साफ किया और इसके बाद एक गिलास वाईन हमारी चूत के ऊपर डाली और अपनी उंगली हमारी चूत में डाल दी. अब वो बहुत तेज तेज हमारी चूत को अपनी उँगलियों से मसल रहा था. तभी हमने नाटक किया और कहा कि कौन हो तुम? और तुम मेरे रूम में क्या कर रहे हो? तो उसने कहा कि चुप हो जा रंडी, में हूँ राज. मन तो कर रहा था कि तुझे आज सुबह बीच में ही चोद देता, लेकिन वहाँ भीड़ लग जाती, नहीं तो तुझे वहीं अपनी रंडी बना लेता और जब तेरे ये बड़े-बड़े बूब्स को देखा तो मेरा बुरा हाल हो गया था, ऐसा लग रहा था कि वहीं तेरी मटकती हुई बड़ी गांड को चोदकर और बड़ी कर दूँ, लेकिन उस समय टाईम नहीं था. इसके बाद वो हमारी चूत को अपने होंठो से चूमने लगा, ओह राज फुक मी, आह राज आ अहह. अब वो हमारी सिसकियों से और तेज हो गया और मुझे उठने को कहा और मेरे गाल पर एक थप्पड़ मार दिया. हमने कहा कि ये क्या कर रहे हो? तो वो बोला आज में तुझे अपनी रंडी बनाऊंगा और मेरे बालों को खींचकर पकड़ लिया और मेरे होंठो पर एक किस दे दिया. इसके बाद हम दोनों एक दूसरे को स्मूच करने लगे, इसके बाद उसने अपना लंबा लंड मेरे होंठो के अंदर दे दिया, ओह माई गॉड राज प्लीज़, आराम से करो. वो मेरे बालों को पकड़कर मेरे मुँह को चोदने लगा, ओह आह आऊ और रप्प उरप्प उर्रप गुपप गुपप गुपप की आवाज़े मेरे मुँह से निकल रही थी. तभी अचानक उसने मेरे मुँह में अपना पूरा लंड दे दिया और वहीं रुक गया. ओह माई गॉड दोस्तों अब ऐसा लग रहा था कि हमारी आँखे ही बाहर निकल जायेंगी, लेकिन कुछ देर के बाद उसने अपना लंड बाहर निकाल दिया. अब में थूकना चाहती थी, लेकिन उसने कहा कि मेरा पूरा रस पी जा और हमने वही किया. अब उसने कहा कि बता किस पोज़िशन में चोदूं? तो हमने कहा कि मुझे अपनी गोद में उठाकर चोदो. तो उसने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और ऊपर चढ़ा दिया. इसके बाद हमने अपने दोनों हाथों से उसके कंधो को पकड़ लिया, अब मेरे बड़े-बड़े बूब्स उसकी छाती पर मसल रहे थे. तभी उसने अपने लंड को हमारी चूत में सेट किया और झटके देने लगा, ओह आह आह यस जस्ट लाइक राज, आह आह आ. अब जैसे जैसे हमारी सिसकारियाँ बढ़ रही थी वैसे वैसे वो अपनी स्पीड बढ़ा रहा था. ओह माई गॉड अब में तो उसी पोज़िशन में झड़ गई, तो वो समझ गया और रुक गया और मुझे बेड पर फेंककर हमारी चूत के रस का रसपान करने लगा. हमारी धीरे धीरे चूत में ऊँगली अंदर बाहर कर रहा था और में आहाहह उउउ अहहाअ की आवाज कर रही थी. इसके बाद उसने मुझे उठाया और ज़मीन पर लेटा दिया. इसके बाद उसने मेरे दोनों पैरो को उठाया और हमारी चूत के छेद में थूक दिया. दोस्तों उसका थूक मेरे अंदर तक आया और उसने अपना लंड हमारी चूत में पेलना शुरू किया. ओह दोस्तों क्या जोश था उसका? अब में तो दर्द से कराह रही थी, आह राज, आ आह प्लीज़ फुक मी राज, आह राज आह आह आह और कुछ देर के बाद उसका लंड हमारी चूत में फूलने लगा. अब में समझ गई कि ये झड़ने वाला है और इसके बाद कुछ देर के बाद वो सिसकियां लेते हुए मेरे अंदर ही झड़ गया, अब तो में चलने लायक भी नहीं बची थी. हमारी गद्देदार चूतर अलग से दिखाई देते है. इसके बाद राज भी कुछ देर के बाद चला गया. इसके बाद हमने सुरेश को फोन करके कुछ खाने का मंगवाया और में अभी भी नंगी ही थी तो सुरेश ने इसके बाद से चोदने को कहा, लेकिन हमने मना कर दिया, क्योंकि में बहुत थक गई थी. एक बार उसने जोश में आकर 7 इंच लंड भोसड़ी के बजाय गांड में धंसा दिया.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।