मुख्य पृष्ठ » रंडी की चुदाई » बस में मिली रंडी पंजाबन


बस में मिली रंडी पंजाबन

Posted on:- 2023-01-10


दोस्तों नमस्कार आपकी की चुदाई कैसी चल रही है मजा तो आ रहा है न  सासीरयकाल मेरे प्यारे साथियो   ये मेरी पहली कहानी है और में आशा करता हूँ कि आप सबको मेरी स्टोरी बहुत पसंद आएगी. अब में आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ. ये बात 3 महीने पहले की है, मेरा काम फरीदाबाद  में है तो में रोज़ बाइक से जाता था, लेकिन एक दिन मेरी बाइक खराब हो गई और मुझे अर्जेंट जाना था तो मैंने सोचा कि आज में बस से ही चला जाता हूँ. फिर मैंने स्टॉप से बस पकड़ी और टिकट लेकर चल दिया. फिर कुछ देर के बाद बस में काफ़ी भीड़ हो गई, अब मेरे आगे एक लेडी थी, जिसकी उम्र कुछ 30 साल होगी, वो पहले तो मेरे पीछे खड़ी थी, लेकिन बाद में मेरे आगे आ गई थी. फिर मैंने सोचा कि शायद इसको उतरना है. अच्छा दोस्तों क्या आपने किसी लड़की को चोदा है सच्ची बताना.


 आप लॉप ने कभी न कभी तो किसी न किसी की गांड मरी ही होगी  फिर थोड़ी देर के बाद जब मेरी नज़र उसकी गांड पर पड़ी तो में आउट ऑफ कंट्रोल हो गया. उसकी गांड का साईज़ 35 था. दोस्तों वो गोरी पंजाबी लेडी थी, आप खुद ही सोच लो कि वो कैसी होगी? अब मेरा लंड खड़ा हो गया था. क्या दोस्तों आपने कभी भाभी को चोदा है कितना मजा आया बताना जरा.
 

मोटी गांड वाली लड़कियों की बात ही कुछ और है अब में थोड़ा आगे होकर उसकी गांड पर अपना लंड टच करने लगा था. अब में मज़े ले रहा था कि आचनक मुझको पीछे से धक्का लगा और मेरा लंड जो 6 इंच का पूरा तना हुआ था, वो उसकी गांड पर इतना तेज़ लगा कि मुझे भी दर्द हुआ, तो सोचो दोस्तो उसको कैसा महसूस हुआ होगा? अब में अपने पीछे वाले बंदे पर गुस्सा करने लगा था ताकि वो शांत हो जाए और मुझे कुछ ना कहे. फिर उसने मेरी तरफ देखा, तो मैंने कहा कि मेम आर यू ओके? तो उसने कहा कि कोई बात नहीं, बस में भीड़ भी तो काफ़ी है, अब उस पर गुस्सा करके क्या फायदा? क्या गजब चुदकड़ अंदाज थी


 लड़किया क्युआ गजब चुदकड़ होती है दोस्तों अब मुझे इस रिप्लाई की बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी, लेकिन ये सुनकर में खुश हो गया और अपने लंड का दर्द भूलकर थोड़ा और आगे हुआ और उससे पूछा कि आप कहाँ जा रहे हो? तो वो मुझसे एक स्टॉप पहले जा रही थी और में नीचे से अपना लंड उसकी गांड में लगा रहा था. लेकिन उसके फेस पर कोई रिएक्शन नहीं था, तो में अपना लंड उसकी गांड में और तेज़ अंदर करने लगा. मेरे मित्रगणों  क्या मॉल थी उसकी चुची पीकर मजा आ गया.


 मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है अब मेरा दिल तो कर रहा था कि अभी अपनी चैन खोल दूँ और उसकी गांड में अपना लंड डाल दूँ, लेकिन उसने कुछ नहीं कहा. फिर उसने मुझसे मेरा नाम पूछा, तो मैंने भी उससे उसका नाम पूछा, तो उसने उसका नाम अल्का बताया और अब वो आराम से मज़े ले रही थी. फिर मेरी भी हिम्मत बढ़ गई और फिर मैंने अपना हाथ नीचे किया और उसकी गांड पर टच किया, तो उसने मेरी तरफ देखा, अब में डर गया था और अब मैंने अपना हाथ भी हटा दिया था. फिर उसने कहा कि आज थोड़ी गर्मी है और इस बस में भीड़ भी ज्यादा है, तो मैंने कहा कि हाँ वो तो है. क्या दोस्तों आपने अपने बहन की चूची को दबाया है.


 मेरे प्यारे दोस्तो चुची पिने का मजा ही कुछ और है अब में समझ गया था कि लाईन साफ है और अपना हाथ उसकी गांड पर फैरने लगा था, उसने ग्रीन सूट पहना था, वो एकदम मस्त लग रही थी. अब बस में भीड़ बढ़ती जा रही थी और अब लोग हम पर ध्यान इसलिए नहीं दे रहे थे, क्योंकि सबको ऐसा लगा कि हम साथ में है और सब अपनी अपनी टेंशन में थे कि कब वो अपनी मंज़िल पर पहुंचेगे? और ड्राइवर से बोल रहे थे कि जल्दी चलो और सवारी मत बैठाओ, लेकिन दोस्तों अब में बहुत खुश था और ड्राइवर को दुआ दे रहा था. ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा .

 मेरे मित्रगणों  चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है     फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड में थोड़ी सी घुसा दी, तो वो एकदम से मछली की तरह मचक गई. फिर मैंने अपना एक हाथ आगे किया और उसकी चूत पर लगाने की कोशिश करने लगा. लेकिन अब मुझे डर भी लग रहा था कि कहीं आगे वाले को शक ना हो जाए. फिर वो थोड़ा घूम गई और में उसकी चूत तक पहुँच गया. अब मेरे हाथ को कोई नहीं देख सकता था, अब में उसकी चूत सहलाने लगा था. क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये.


 मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है अब उसकी चूत पानी छोड़ रही थी और में उसकी सलवार के ऊपर से ही अपनी उंगली अंदर डालने लगा था. तो उसने मेरा हाथ हटा दिया और मेरी तरफ़ देखने लगी. फिर उसके बाद उसका स्टॉप आ गया और वो उतरने लगी. अब में भी उसके पीछे-पीछे उतर गया, तो उसने मुझे देखा और कहा कि तुम्हें तो आगे जाना है. मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था    


 चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए मैंने कहा कि मुझे मेरी मंज़िल मिल गई है अल्का जी, तो वो हंसी और बोली कि तुम्हें अब भी सुकून नहीं मिला. फिर में हंसा और कहा कि बैचेन करके सुकून की बातें आप कर रही हो. तो वो फिर हंस पड़ी, फिर मैंने कहा कि एक बार आप और हंसी तो मेरा दम यहीं निकल जाएगा. फिर वो बोली कि तुम बातें तो बहुत अच्छी करती हो. फिर मैंने कहा कि आप मौका तो दो और भी काम है, जिन्हें में बहुत अच्छे से करता हूँ. फिर उसने कहा कि घर पर तो मेरी फेमिली होगी, तुम अपना नंबर दे दो, तो मैंने कहा कि नंबर तो ले लेना, लेकिन अभी इसका क्या करूँ? तो उसने कहा कि तुम ही कुछ सोचो, तो मैंने कहा कि आओ मेरे साथ. साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है.


 अब सुनिए चुदाई की असली कहानी फिर मैंने एक ऑटो किया और मेरे ऑफिस से थोड़ा पहले एक होटल है, वहाँ चलने को बोला. फिर उसने ऑटो वाले से कहा कि मुझे 5 बजे घर जाना है. तो मैंने कहा कि अभी तो 3 बजे है, टेशन मत लो, अब आप मेरी जिम्मेदारी हो, तो उसने कहा कि ओके. फिर हम होटल पहुँचे और फिर मैंने वहाँ अपनी आई.डी से होटल में रूम बुक किया और फिर हम रूम में चले गये. मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया.


वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों   अब वहाँ जाते ही में उस पर टूट पड़ा, तो उसने कहा कि आराम से जियान. फिर मैंने बोला कि हमारे पास बस 1 घंटा 30 मिनट है जान, तो वो हंसी और मेरा साथ देने लगी. अब में उसके होंठो को चूस रहा था, अब वो भी मेरा साथ दे रहे थे. फिर उसके बाद मैंने उसकी कमीज़ उतारी और उसके बूब्स जो 34 के थे उन पर टूट पड़ा. अब वो भी पागल हो गई थी और मेरे सिर को अपने बूब्स पर दबा रही थी. फिर मैंने उसकी सलवार उतारी और उसकी चूत में अपनी एक उंगली डालने लगा, उसकी चूत एकदम टाईट थी. मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया.


 वहा जबरजस्त माल भी थी मेरे मित्रगणों   फिर मैंने उससे पूछा कि तुम्हारी शादी नहीं हुई क्या? तो उसने कहा कि हो गई, लेकिन मेरे पति शादी के एक महीने के बाद ही आउट ऑफ टाउन चले गये थे और ये तब से ही प्यासी है. वो साल में 2 बार आते है, वो अभी 1 महीने पहले ही गये है, उसकी शादी को अभी 2 साल ही हुए थे, उसके कोई बच्चा नहीं था. अब में उसकी चूत में अपनी उंगली और तेजी से करने लगा था और उसकी गांड के छेद को अपनी ज़बान से चाटने लगा था. अब वो और पागल हो गई थी. फिर मैंने उसकी चूत चाटनी शुरू की, तो वो बहुत चुदकड़  आवाज़ निकालने लगी, जियान और चाटो ये बहुत प्यासी है, इसका सारा पानी निकालकर पी जाओ जान. मेरे मित्रगणों  चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया.


 ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मेरे मित्रगणों   अब में उसकी चूत को अपनी ज़बान से चोदने लगा था. अब वो और पागल हो गई थी और चुदकड़  आवाज़े निकालने लगी थी कि जियान में मर जाउंगी, जानू आई लव यू आह उूउउमा अहह ह आह जान, आई लव यू जान. अब में झड़ने वाली हूँ कहकर उसने मेरे सिर को अपनी चूत पर दबा दिया और सारा पानी मेरे मुँह में ही छोड़ दिया और कहने लगी कि अब बर्दाश्त नहीं होता मेरी प्यासी चूत में अपना लंड डाल दो. मेरे मित्रगणों  एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया.


उह क्या मॉल था मेरे मित्रगणों  गजब  फिर मैंने कहा कि जान पहले इसका स्वाद तो चख लो, तो उसने कहा कि ज़रूर जानू और कहकर मेरा लंड अपने मुँह में लेकर लॉलीपोप की तरह चूसने लगी. फिर 5 मिनट तक चूसने के बाद उसने कहा कि बस अब डाल दो जियान. फिर मैंने उसकी टांगो के बीच में जाकर अपना लंड उसकी चूत पर सेट करके एक झटका मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में फिट हो गया और उसके मुँह से बहुत तेज़ चीख निकली और कहा कि इसको बाहर निकालो नहीं तो में मर जाउंगी, लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी और झटके मारने शुरू कर दिए और उसको तेज़-तेज़ चोदने लगा. अब वो भी अपनी गांड उठा-उठाकर मज़े से चुदने लगी और आवाज़े निकालने लगी थी, जान बहुत मज़ा आ रहा है और तेज़ और तेज़, मेरी चूत का भोसड़ा बना दो जान. मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मेरे मित्रगणों  .

 क्या बताऊ मेरे मित्रगणों  मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया फिर मैंने कहा कि मेरी रंडी पंजाबन आज तेरी चूत का सारा पानी सुखा दूंगा और तेरी चूत का भोसड़ा बना दूंगा, आई लव यू जान कहकर मैंने उसको घोड़ी बना दिया और उसकी चूत को पेलने लगा. अब वो बहुत तेज़-तेज आवाज़े निकालने लगी थी आहहहहह और तेज़्ज़्ज़ जियान और तेज़्ज़्ज़ चोदो, मुझे रंडी की तरह चोदो जियान कहने लगी और बोली कि में झड़ने वाली हूँ, फाड़ दो मेरी चूत को. कुछ भी  हो माल एक जबरजस्त था .


उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये  फिर मैंने टॉप गियर डाला और तेज़-तेज़ चोदने लगा, अब में भी झड़ने वाला था. फिर वो बोली कि जान में गई कहकर तेज़ तेज़ साँस लेने लगी. फिर मैंने उससे पूछा कि कहाँ निकालूं? तो उसने कहा कि मेरी चूत में मेरे राजा, तो मैंने अपना सारा पानी उसकी चूत में ही निकाल दिया और उसके ऊपर ही लेटा रहा. फिर उसके बाद मैंने उसको किस किया और फिर मुझे याद आया कि मुझे तो आज बहुत ज़रूरी काम से जाना था. मेरे मित्रगणों  मैंने किसी भाभी को छोड़ा नहीं है.


 उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है  उसने मुझसे थैंक्स कहा और कहा कि अब से तुम ही मेरे पति हो आज मेरी असली सुहागरात मनी है जियान. फिर मैंने उसको अपना नंबर दिया और उसको उसके घर पर छोड़ा और में भी जल्दी से अपना काम पूरा करने चला गया. मेरे मित्रगणों  एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई मेरे मित्रगणों  कई बार जबरजस्ती शॉट मरने में चुत से खून निकल गया.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।