मुख्य पृष्ठ » फर्स्ट टाइम सेक्स स्टोरीज » सेक्स गेम और ग्रुप सेक्स


सेक्स गेम और ग्रुप सेक्स

Posted on:- 2022-06-16


सुप्रभात मेरे प्यारे साथियो, मेरा नाम  रहमान  है, में हापुड़ उत्तर प्रदेश  का रहने वाला हूँ, में 18 साल का हूँ और में 12वीं क्लास में हूँ. में दिखने में गोरा और अच्छा हूँ. मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच हैऔर में पढाई में बहुत तेज तरार  हूँ. कोई भी लड़की मुझ पर आसानी से मर जाए और मेरा लंड 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है. साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है.

 अब सुनिए चुदाई की असली कहानी यह कहानी 1 साल पहले की है, हमारी क्लास में 5 स्टूडेंट का एक ग्रुप था 2 लड़के, 3 लड़कियाँ ( में, कुलदीप, शभ्या, नीलम, सपना ) नीलम, सपना  दिखने में ठीक थी, लेकिन शभ्या की तो बात ही कुछ और थी, वो बहुत ही सुंदर थी और उसका कलर गोरा है. वो पढाई में भी तेज तरार  है, जो उसे एक बार देख ले तो पागल ही हो जाए. में उसे हमेशा से गलत नजरों से देखता था, वो बहुत ही सीधी थी. अब हम लोग काफ़ी खुल गये थे, हमारे बीच सेक्स तक की बातें होने लगी थी, लेकिन शभ्या इन सब से दूर ही रहती थी, उसके सामने हम कुछ भी उल्टी सीधी बातें नहीं करते थे. दोस्तों एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया.

 वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मित्रों फिर सपना  ने बताया कि वो कई बार अपने भाई के साथ सेक्स कर चुकी है. अब उसकी स्टोरी सुनकर हम सभी गर्म हो जाया करते थे. मैंने कई बार सपना  और नीलम के बूब्स को उनकी शर्ट के ऊपर से दबाया था और उन्होंने भी मेरे और कुलदीप के लंड को हमारी पेंट के ऊपर से ही सहलाया था, लेकिन ये सब हम शभ्या के नहीं होने पर ही करते थे. हमारी बायोलॉजी की बुक में एक रिप्रोडक्षन का चैप्टर था, जिसे सर ने पढ़ने के लिए मना कर दिया था, वो किसी को भी समझ में नहीं आया था. अब हम सब रविवार को उसे पढ़ने के लिए सपना  के घर पर जाने वाले थे. में उन सबको पढ़ाने के लिए जा रहा था, में अच्छे से उस चैप्टर को पढ़कर गया था, तो किसी कारण से कुलदीप नहीं आया. दोस्तों उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया.


 दोस्तों चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया अब सपना  के घर पर और कोई नहीं था और में टेबल के एक साईड और वो तीनों दूसरी साईड बैठी थी. फिर जब हम सेक्सुअली रिप्रोडक्षन पर पहुँचे, तो सब मन ही मन हंस रहे थे. फिर जब एक विषय आया तो सब लड़कियाँ शर्माने लगी. ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मित्रों.


 दोस्तों एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया तभी सपना  ने सारी किताबें बंद कर दी और कहने लगी कि चलो एक गेम खेलते है. फिर उसने कुछ पर्चियों पर सबका नाम लिखा और मिला दी, वो गेम कुछ इस तरह था कि एक पर्ची उठेगी और जिसका भी नाम आएगा सब मिलकर उसे पकड़ लेंगे और उसके सारे कपड़े एक-एक करके उतारेंगे और उसे अपने कपड़े उतरने से बचना होगा. उह क्या मॉल था मित्रों गजब. 


 क्या बताऊ दोस्तों मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया इसके लिए 1 मिनट का टाईम होगा, तो सब तैयार हो गये, अब केवल शभ्या मना कर रही थी. फिर खेल शुरू हुआ, फिर मैंने एक पर्ची उठाई तो उस पर शभ्या का ही नाम था. अब वो मना करने लगी थी और वहाँ से भाग गयी थी. फिर तभी नीलम बोली कि उसे जाने दो हम लोग खेलते है. फिर अबकी बार सपना  ने पर्ची उठाई तो उस पर मेरा ही नाम था. उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये.

 दोस्तों मैंने किसी भाभी को छोड़ा नहीं है अब नीलम ने मुझे कसकर पकड़ लिया था और सपना  मेरे कपड़े उतारने लगी थी, तो वो दोनों मिलकर 1 मिनट में मेरी शर्ट और पेंट ही उतार सके. अब बारी सपना  की थी, फिर नीलम ने उसे कसकर पकड़ा और में उसके कपड़े उतारने लगा, लेकिन सपना  बिल्कुल भी विरोध नहीं कर रही थी, तो हमने 1 मिनट में उसे पूरा नंगा कर दिया. फिर जैसे ही मैंने उसके बूब्स और चूत देखी तो मेरे होश ही उड़ गये. में पहली बार किसी लड़की को नंगा देख रहा था. उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है.

 दोस्तों एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया अब में उसकी चूचीयाँ देखकर खुश हो गया था, बिल्कुल टाईट और बिल्कुल दूध जैसी थी और उस पर उसका ब्राउन कलर का निप्पल था. फिर मैंने उसे अपनी बाँहों में ले लिया और उसे किस करने लगा. फिर मैंने उसे अपनी बाँहों में उठाया और अंदर बेडरूम में ले गया और उसके होंठो पर किस करने लगा. फिर करीब 15 मिनट तक मैंने उसे किस किया. अब वो एकदम गर्म हो चुकी थी और चिल्ला रही थी प्लीज जल्दी करो. फिर मैंने उसे चूसना शुरू किया तो वो चिल्ला उठी प्लीज हाईईईईईईईआआआहह, प्लीज, हाईई, सस्स्स्स्सस्स, फुक मी, हाईईईईईईईई, प्लीज, हाईईईईईईईईई, ससस्स, जल्दी करो दोस्तों चोदते  चोदते  कंडोम के चीथड़े मच गए.
.

 ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है फिर मैंने भी अपनी चड्डी खोल दी, तो वो मेरा 7 इंच का मोटा तगड़ा लंड देखकर घबरा गयी और बोली कि प्लीज पूरा मत डालना, मुझे काफ़ी दर्द होता है. फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में डालना चाहा, तो उसने मना कर दिया और बोली कि इसे मेरी चूत में ही डालो. फिर मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया और काफ़ी देर तक चाटता रहा. एक बार मैंने अपने मौसी की लड़की को जबरजस्ती चोद दिया.


 है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई अब उसके मुँह से चीखे निकल रही थी आहह, ऊऊऊऊऊऊओ, प्लीज फुक मी, प्लीज चोदो मुझे, आआआआ अब और बर्दाश्त नहीं होता है, हाईईईईईईई, आआआअहह, प्लीज सस्स. फिर उसने मुझे खींचकर अपने ऊपर लेटा लिया और मैंने उसके कंधो को अपने हाथों से कसकर पकड़ लिया और अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा. अब अभी मेरा लंड सिर्फ़ आधा ही गया था कि वो जोर से चिल्लाई और पीछे हटने की कोशिश करने लगी, लेकिन मैंने भी उसे पूरे ज़ोर से पकड़ रखा था. मेरे मित्रो मामा की लड़की की चुदाई में बड़ा मजा आया.

 दोस्तों कई बार जबरजस्ती शॉट मरने में चुत से खून निकल गया फिर मैंने एक और झटके से अपना करीब आधे से ज्यादा लंड उसकी चूत में डाल दिया और वो फिर से चिल्लाई उूउउ, आआआआहह, प्लीज छोड़ो मुझे, लेकिन मैंने उसे फिर से एक झटका दिया और अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया था. अब वो उसके मुँह से काफ़ी तेज आवाजे निकाल रही थी, लेकिन कुछ ही देर में उसे भी मज़ा आने लगा. उसका भोसड़ा का छेड़ गजब का था मित्रों.

 उसकी बूब्स  देखते ही उसको पिने की इच्छा हो गयी उसने कहा कि अब मुझे मज़ा आ रहा है प्लीज फुक मी फास्ट. फिर मैंने धीरे-धीरे अपनी स्पीड बढ़ाते हुए अपनी स्पीड तेज कर दी. अब वो चिल्ला रही थी प्लीज ज़ोर से चोदो, प्लीज फुक मी, ऊऊऊऊऊओ, आहह, ऊऊऊऊहह, उम्म्म्ममममम और फिर करीब 20 मिनट तक में उसे चोदता रहा. फिर उसकी चूत में से पानी निकल गया और उसने मुझे और टाईट से पकड़ लिया. अब में समझ चुका था की उसका पानी निकल चुका है. फिर मैंने अपनी स्पीड और तेज की तो थोड़ी देर में ही मेरा भी पानी निकल गया. मित्रों मै सबसे पहले उसकी गांड मरना चाहता हु.

 उसको पेलने की इच्छा दिनों से है मित्रों अब नीलम भी पीछे खड़ी होकर यह सब देख रही थी, अब वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और अपने बूब्स को दबा रही थी. फिर कुछ देर के बाद सपना  ने नीलम के बूब्स पर अपना एक रखा, तो नीलम सिर्फ़ मुस्कुराकर रह गयी. अब सपना  ने नीलम के एक बूब्स को दबाना शुरू कर दिया था. अब सपना  को ऐसा करते देखकर में भी नीलम के दूसरे बूब्स को दबाने लगा था. अच्छा चुदाई चाहे जितनी कर साला फिर भी लैंड नहीं मनता मित्रों.

 मित्रों मेरा तो मानना है जब भी चुत मारनी हो बिना कंडोम के ही मारो तभी ठीक नहीं सब बेकार अब नीलम ने अपनी आँखें बंद कर ली थी. फिर सपना  ने नीलम को बेड पर लेटा दिया और बेड पर लेटाने के बाद नीलम के सारे कपड़े उतार दिए. अब में नीलम की जाँघ पर बैठ गया था और उसकी चूत को सहलाने लगा था. फिर नीलम ने बताया कि वो वर्जिन है, तो सपना  बोली कि कोई बात नहीं. अब में उसे चोदने के लिए पूरा तैयार था. फिर मैनें जैसे ही अपना सुपाड़ा नीलम की चूत पर रखा तो वो चिल्ला पड़ी. अब सपना  मुझे दूर करके उसकी चूत को सहलाने लगी थी. फिर कुछ देर तक उसकी चूत को सहलाने के बाद उसने वही पास में पड़े डिब्बे से थोड़ा सा सरसों का तेल निकालकर उसकी चूत को अपने एक हाथ से फैलाकर डाला. फिर उसने मेरे लंड पर जो कि डंडे की तरह खड़ा था उस पर भी तेल लगाया. उसके बूर की गहराई में जाने के बाद क्या मजा आया मित्रों  जैसे उसके चुत में माखन भरा हो.

 उसको देखने बाद साला चुदाई भूत सवार हो जाता मित्रों फिर तेल लगाने के बाद उसने मेरे लंड को नीलम की चूत पर रख दिया, तो मैंने एक करारा झटका मारा तो मेरा लंड थोड़ा अंदर चला गया और उसने ज़ोर से एक सिसकी ली, अब वो बिल्कुल चिल्ला उठी थी. फिर मैंने एक और कसकर धक्का मारा, तो वो तड़प उठी, तो तब में समझ गया कि अब वो लड़की से औरत बन चुकी थी. मुझे तो कभी कभी चुदाई का टाइफिड बुखार हो जाता है और जब तक चुदाई न करू    तब तक ठीक नहीं होता.


 एक बात और मित्रों चुत को चोदते समय साला पता नहीं क्यों नशा सा हो जाता बस चुदाई ही दिखती है फिर उसकी चीख को सुनकर सपना  बोली कि शायद तुम्हारी सील टूट गयी है, अब उसकी चूत से खून आ रहा था. फिर थोड़ी ही देर में वो झड़ गयी और सीधी लेट गयी. फिर सपना  ने मेरा लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और उसके मुँह में डाल दिया. अब वो मेरे लंड को चूसने लगी थी. फिर 10 मिनट के बाद में उसके मुँह में ही झड़ गया और वो मेरा सारा रस पी गयी. फिर सपना  ने तुरंत मेरे लंड को अपने मुँह में लिया और उसे फिर से तैयार कर दिया. उह यह उसकी नशीली आँखे में एक दम  चुदकड़ अंदाज है.

 मित्रों देखने से लगता है की वो पका चोदा पेली का काम करती होगी फिर उसने मुझसे कहा कि अब मेरी गांड मारो तो मैंने यह सुनकर उसकी गांड में अपने लंड को घुसाकर ज़ोर से एक झटका मारा, तो उसके मुँह से आआआआहह की आवाज निकली. फिर इस तरह से हमारा यह प्रोग्राम करीब 2 घंटे तक चला. फिर हम तीनों नंगे ही एक साथ बाथरूम में नहाए और मैंने वहाँ भी एक-एक बार उन दोनों की चूत मारी. फिर हम लोग अपने-अपने कपड़े पहनकर फिर से रूम की तरफ अपनी-अपनी बुक्स लेने के लिए चल पड़े. मित्रों चुत को चाटेने के  समय उसके बूर के बाल मुँह में आ रहे थे मित्रों मुझे तो कभी कभी चुत के दर्शन मात्र से खूब मजा आता क्योकि मई पहले बहुत बार अपने मौसी के लड़की  को बिना पैंटी के देखा था  वाह क्या मजा आया था मन कर रहा था कब इसे चोद लू मेरा लंड समझने  को तैयार नहीं था अब बिना चुदाई के रह नहीं सकता था मित्रों मै पागल सा हो गया.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।