मुख्य पृष्ठ » फर्स्ट टाइम सेक्स स्टोरीज » दीदी की सहेली की भूख मिटाई


दीदी की सहेली की भूख मिटाई

Posted on:- 2022-11-11


नमस्कार मित्रों और सुनाइए कैसे आप सब मित्रों मै आप सब का हार्दिक अभिनंदन करता हु मेरा नाम सन्नी है और में केरला  का रहने वाला हूँ और मुझे सेक्सी कहानियाँ पढ़ाना बहुत अच्छा लगता है मेरी हाईट 6.5 इंच है. दोस्तों अब में आप सभी को ज्यादा बोर ना करते हुए सीधे अपनी आज की स्टोरी पर आता हूँ.. मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.


 ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा यह स्टोरी मेरी दीदी की सहेली के बारे में है जिसके साथ मैंने जमकर सेक्स किया. दोस्तों मेरी बड़ी बहन की बहुत सारी फ्रेंड्स हमारे घर पर आती जाती रहती है और मेरी दीदी मुझसे 9 साल बड़ी है और उनकी फ्रेंड्स भी उसी उम्र की है. यह घटना आज से दो महीने पहले घटित हुई थी. उस समय मेरी दीदी की परीक्षा चल रही थी तो ग्रुप स्टडी के लिए उनकी कई सहेली हमारे घर पर आती जाती रहती थी और उनमे से एक थी पूर्णिमा. क्या बताऊ दोस्तों  उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये.

 दोस्तों क्या मलाई वाला माल लग रहा था दोस्तों वो बहुत ज़्यादा सुंदर थी.. उसकी 6.7 हाईट, कलर दूध से भी ज़्यादा गोरा, बड़ी बड़ी आखें, लंबे काले बाल और फिगर तो ऐसा कि अगर वो मेरी उम्र की होती तो में उससे ही शादी कर लेता. उसके फिगर का साईज 33-27-36 था और उसकी उम्र 29 साल थी. वो लोग MBA की पड़ाई कर रहे थे और जब पढ़ाई करते करते रात को कई बार वो लेट हो जाते तो में उन सबको घर पर छोड़ने जाया करता था. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.


 अब सुनिए चुदाई की असली कहानी दोस्तों दीदी की सभी फ्रेंड्स मुझसे बहुत घुली हुई थी और कई बार घर पर छोड़ते जाते टाईम हम सब आईसक्रीम भी खाते और इसी तरह मेरी लाईफ चल रही थी. तभी एक ऐसा मोढ़ आया जिसने मुझे उस परी के पास जाने का मौका दिया. एक दिन पूर्णिमा हमारे घर पर पढ़ने आई.. लेकिन दीदी उस वक्त घर पर नहीं थी और मुझे पूर्णिमा बहुत उदास लग रही थी. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मित्रों.

 वहा जबरजस्त माल भी थी मित्रों मैंने उसे अंदर बुलाया और पीने को पानी दिया.. वो सोफे पर बैठ गई में भी उसके साथ बैठ गया. फिर मैंने उससे पूछा कि वो आज इतना उदास क्यों लग रही है? लेकिन उसने कहा ऐसी कोई बात नहीं है और इतने में दीदी और उनकी बाकी फ्रेंड्स आ गई और मुझे फिर पूर्णिमा से बात करने का मौका नहीं मिल पाया. इसी तरह रात के 12 बज गये तो दीदी ने मुझसे कहा कि में सबको घर छोड़ आऊं.. तो मैंने अपनी कार बाहर निकाली और में और दीदी की 5 फ्रेंड्स चल पड़े.. पूर्णिमा मेरी साईड सीट वाली पर बैठी हुई थी और उसका मूड अभी भी खराब था. ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मित्रों.

 उह क्या मॉल था मित्रों गजब फिर एक एक करके मैंने सभी को घर छोड़ दिया और अब सिर्फ़ कार में में और पूर्णिमा थे और मैंने मौका देखकर उससे बात करनी शुरू कर दी.

में : ऐसा क्या हुआ है पूर्णिमा दीदी.. अब कुछ बताओगे भी?

पूर्णिमा : कुछ भी तो नहीं हुआ.. सब एकदम ठीक है.

में : प्लीज कम से कम झूट तो मत बोलो यार.

पूर्णिमा : नहीं तुम्हे बताने से कोई फायदा नहीं है क्योंकि तुम नहीं समझोगे.

में : में कोई इतना छोटा बच्चा भी नहीं हूँ कि में नहीं समझूंगा.. क्या बॉयफ्रेंड ने कुछ कहा?

 मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मित्रों तो मेरी यह बात सुनकर पूर्णिमा की आँखें एकदम भर आई.. मैंने कार साईड में लगाई और उसकी तरफ़ देखा वो मुझे गले लगाकर रोने लगी तो मैंने उससे पूछा कि हुआ क्या दीदी मुझे कुछ तो बताओ? कुछ भी  हो माल एक जबरजस्त था  उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये


पूर्णिमा : तुम ही बताओ कि सन्नी मुझ में ऐसी क्या कमी है जो उसने मुझे छोड़ दिया?

में : लेकिन मुझे यह तो बताओ कि किसने आपको छोड़ दिया?

पूर्णिमा : ( रोते-रोते ) अतुल.. मेरा बॉयफ्रेंड है और हम पिछले एक साल से बहुत अच्छे दोस्त है.. लेकिन उसे में दिखने में अच्छी नहीं लगती हूँ.. क्या में दिखने में इतनी बेकार हूँ?

 उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है तो यह बात सुनकर में एकदम हैरान था और में बोला कि वो कोई बदकिस्मत ही होगा जो आपको छोड़ेगा और अगर मुझे आप मिले होते तो अब तक में आपसे शादी कर लेता. तो वो मेरी यह बात सुनकर थोड़ा मुस्कुरा दी. ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है

में : कहो तो में आपका बॉयफ्रेंड बन जाऊँ.. बोलो?

 है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई पूर्णिमा : हंसते हुए.. अच्छा तो मेरा बच्चा इतना बड़ा हो गया है और उसने मुझे हग किया में उसके बूब्स अपनी छाती पर महसूस कर रहा था और मेरा तो लंड एकदम जोश में आकर खड़ा होने लगा. फिर उसने कहा कि क्या अब घर नहीं छोड़ोगे अपनी गर्लफ्रेंड को? और वो अभी भी मुझसे लिपटी हुई थी और इस तरह हम घर पर पहुँचने ही वाले थे कि बहुत तेज़ बारिश शुरू हो गई और अब इतना प्यारा मौसम हो गया और इतनी सुंदर लड़की किसी को हग करके बेठी हुई हो तो कौन पागल नहीं होगा? उसका भोसड़ा का छेड़ गजब का था मित्रों .

 उसकी बूब्स  देखते ही उसको पिने की इच्छा हो गयी मेरा लंड तो अब पेंट से बाहर निकलने के लिए तरस रहा था. तभी उसका एक हाथ मेरे लंड पर गया.. उसने मेरी आँखो में देखा और फिर मुस्कुरा दी.. दोस्तों मुझे डर भी लग रहा था और अच्छा भी. तभी उसने मुझे होंठ पर किस किया और में बहुत चकित हो गया इसलिए में उसकी किस का भी ढंग से जवाब नहीं दे पा रहा था. तभी उसने अपनी किस तोड़ी और कहा कि अब क्या प्यार नहीं करोगे अपनी गर्लफ्रेंड को? मित्रों मै सबसे पहले उसकी गांड मरना चाहता हु.

 उसको पेलने की इच्छा दिनों से है मित्रों फिर में तो उसकी बात सुनकर मन ही मन जैसे खुशी से मचल गया और हम उसके घर की पार्किंग में थे और उस समय रात के एक बजे थे तो हमें किसी के आने भी डर नहीं था. तो मैंने उसे फिर से दोबारा होंठो पर किस किया और अब मैंने उसे ढंग से किस करना शुरू किया और मैंने उसके होंठो को ढंग से निचोड़ दिया. शायद वो भी बहुत भूखी थी और वो भी मुझे पागलों की तरह किस किए जा रही थी और लगभग 15 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसे कार से बाहर निकाला और दोबारा उसकी गर्दन पर किस करने लगा. तो उसने कहा कि सब कुछ यहीं पर करना है क्या? तो मैंने उसे अपनी बाहों में उठाया और लिफ्ट से ऊपर ले गया. अच्छा चुदाई चाहे जितनी कर साला फिर भी लैंड नहीं मनता मित्रों.

 मित्रों मेरा तो मानना है जब भी चुत मारनी हो बिना कंडोम के ही मारो तभी ठीक नहीं सब बेकार फिर हम बस उसके घर में घुसे और बस हम पागलों की तरह किस किए जा रहे थे और फिर मैंने उसका टॉप निकाल दिया.. अब वो सिर्फ़ काली ब्रा में थी. में उसके बूब्स पर टूट पड़ा, मैंने उसकी ब्रा खोली और उसके पिंक निपल्स को मुहं मे लेकर बहुत ज़ोर से चूसने लगा. वो भी पागल हुए जा ही थी. फिर मैंने उसे बेड पर लिटाया और जीन्स का बटन खोलकर उतार दिया. मैंने बेड पर चड़ने से पहले अपनी शर्ट और पेंट भी उतार दी.. अब में उसकी टॅंगो के बीच में आया और उसकी पेंटी भी उतार दी. फिर में उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा. उसके बूर की गहराई में जाने के बाद क्या मजा आया मित्रों  जैसे उसके चुत में माखन भरा हो.

 उसको देखने बाद साला चुदाई भूत सवार हो जाता मित्रों उसने कहा कि प्लीज मुझे और प्यार करो.. में उसकी चूत मे उंगली डालकर रगड़ने लगा.. वो पागल होती जा रही ही थी. फिर मैंने अपनी अंडरविर उतारी और उसकी चूत पर रगड़ने लगा. वो मोन कर रही थी.. आआआअहह, सन्नी डार्लिंग चोदो मुझे. मुझे तो कभी कभी चुदाई का टाइफिड बुखार हो जाता है और जब तक चुदाई न करू    तब तक ठीक नहीं होता.

 एक बात और मित्रों चुत को चोदते समय साला पता नहीं क्यों नशा सा हो जाता बस चुदाई ही दिखती है  मैंने तभी एक ही झटके मे पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया. उसकी आँखों से आँसू निकल आए.. में उसके उपर आ गया और उसके बूब्स चूसने लगा. वो धीरे धीरे शांत हुई और कहने लगी कि और करो.. मैंने अपना लंड अंदर बाहर करना शुरू किया. वो चिल्लाये जा रही थी.. आआआखह, ईईईआआाआआअहह मुझे कुतिया बनाओ, चोदो मुझे, अआह्ह मजा आ गया. उह यह उसकी नशीली आँखे में एक दम  चुदकड़ अंदाज है.


 मित्रों देखने से लगता है की वो पका चोदा पेली का काम करती होगी मैंने उसे एक ही पोज़िशन में लगातार 25 मिनट तक चोदा.. जिसमे में 3 बार झड़ा और वो 5 बार से भी ज़्यादा. ऐसा लग रहा था कि जैसे मैंने वियाग्रा खा ली हो.. वो सच मे बहुत सुंदर थी. उसका भूत मुझे चड़ा हुआ था.. फिर में उसके ऊपर ऐसे ही सो गया. मित्रों चुत को चाटेने के  समय उसके बूर के बाल मुँह में आ रहे थे.

 मित्रों मुझे तो कभी कभी चुत के दर्शन मात्र से खूब मजा आता क्योकि मई पहले बहुत बार अपने मौसी के लड़की  को बिना पैंटी के देखा था  वाह क्या मजा आया था सुबह उठने के बाद हमें महसूस हुआ कि हमने क्या किया था.. लेकिन पूर्णिमा खुश थी. फिर हम दोनों साथ में शावर में नहाए और फिर पूरा दिन में इतनी सुंदर लड़की के साथ रहकर बहुत खुश हुआ. अब चुदाई करने को  १००% तैयार थी चोदने के बाद थोड़ा रिलेक्स हुआ भाइयो क्या गजब मजा जब माल अच्छा हो तो कौन नहीं  चोदना चाहेगा  है न मित्रों आया सेक्स करते समय बहुत मजा आया था मित्रों.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।