मुख्य पृष्ठ » कजिन के साथ सेक्स स्टोरीज » भोली लड़की का जन्मदिन


भोली लड़की का जन्मदिन

Posted on:- 2024-01-06


हाय हाउ आर यू!.. मैं त्रिलोचन है. मैं आप सभी के सामने एक कहानी लेकर आया हूँ. मैंने बहुत सी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी है और वो मुझे बहुत पसंद भी आई. दोस्तों.. यह कहानी तारावती की है.. वो मेरे पड़ोस वाले घर में रहती है. तारावती नॉएडा की रहने वाली एक 19 साल की लड़की है. उसके पापा बहुत बड़े जुआरी हैं और माँ धंधेबाज है. उसका एक छोटा भाई भी है जिसकी उम्र 10 साल है. तारावती बहुत ही चुलबुली और प्यारी लड़की है.. लेकिन वो एक बहुत भोली है.. वो दिखने में बहुत सुंदर और सेक्सी है उसके बड़े बड़े बूब्स, पतली कमर, गदराया बदन और बड़ी सी गांड है.. लेकिन उसे सेक्स के बारे में बिल्कुल भी पता नहीं है.. क्योंकि वो अभी इन सभी बातों से अंजान है और यह उसकी जवानी का पहला कदम है.

दोस्तों.. यह बात तारावती के जन्मदिन वाले दिन की है.. वो 12 दिसम्बर 2018 का दिन था और आज तारावती 19 साल की हो गई थी.. तारावती 11वीं में पड़ती थी. पढ़ाई में वो बहुत अच्छी थी और पढ़ाई के साथ साथ वो घर के कामों में भी बहुत माहिर थी. उस दिन वो अपने जन्मदिन के कारण बहुत खुश थी और उसके एक दिन पहले मतलब कि कल अपने पापा के साथ बाजार जाकर बहुत सी चोकलेट लेकर आई थी अपने सभी दोस्तों में बाटने के लिए. उसने अपनी क्लास में चोकलेट बाँटी और अपने दोस्तों को मुठ्ठी भर भर के चोकलेट दी. उस दिन वो सारा दिन स्कूल में पार्टी करके घर लौटी. उसकी माँ भी घर आ चुकी थी. लंच के बाद उसे ध्यान आया कि अभी भी उसके बैग में बहुत सारी चोकलेट पड़ी हैं और सोचने लगी कि अब वो उसका क्या करे?

तभी उसकी माँ ने कहा कि वो जाकर अपने पड़ोसियों में चोकलेट बाँट आए. तारावती को यह आईडिया बहुत अच्छा लगा. शाम पाँच बजे उसका छोटा भाई बाहर खेलने गया हुआ था और माँ मार्केट जाने की तैयारी कर रही थी. तो उसने सोचा कि अब मैं पड़ोस में जाकर चोकलेट बाँट आती हूँ.. फिर वो सबसे पहले सामने वाले शर्मा जी के घर गयी.. वहाँ पर शर्मा आंटी अकेली थी तो उन्होंने उसे जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई दी और चोकलेट ली और उसने शर्मा जी की बेटी तीजा के लिए भी चोकलेट रख दी. फिर सभी पड़ोसियों को चोकलेट बाँटने के बाद सबसे आखरी में वो मिस्टर खुराना के घर गयी.

मिस्टर खुराना एक ऑफिसर पोस्ट के व्यक्ति थे और वो दिल्ली के रजत विहार के रहने वाले थे.. लेकिन उनकी पोस्टिंग यहाँ होने की वजह से वो अकेले यहाँ पर रहते थे और सप्ताह की छुट्टियों पर अपने घर जाया करते थे. उनकी उम्र कुछ 36 के करीब होगी और वो तारावती की फेमिली को बहुत अच्छी तरह जानते थे और तारावती भी हमेशा उनसे प्यार से बात किया करती थी. वो अपनी बीवी से बहुत दूर होने की वजह से हमेशा सेक्स के लिए तड़पते थे.. लेकिन यहाँ पर घर से दूर नौकरी की वजह से वो अपनी सेक्स की भूख नहीं मिटा सकते थे. तारावती के जन्मदिन के दिन वो अपने ऑफिस से बॉस की डांट खाकर घर पहुँचे ही थे कि तभी बेल बजी.. वो उठे और दरवाज़ा खोला. उन्होंने देखा कि दरवाज़े पर चोकलेट का पैकेट लिए तारावती खड़ी थी. तारावती ने एक गुलाबी कलर का थोड़ी टाईट टॉप और नीचे जीन्स पहनी हुई थी और तारावती को देखते ही पता नहीं क्यों उन्हें आज कुछ अजीब सा लगा.

तारावती को वो एक पड़ोस की लड़की कि नज़र से नहीं बल्कि उसमे औरत को देखने लगे और उन्हें पता था कि तारावती बहुत भोली और शरीफ है ना जाने क्यों वो उसके साथ कुछ करना चाहते थे? फिर वो बोले कि आओ तारावती क्या हाल है तुम्हारा? हैल्लो खुराना खुराना आज मेरा जन्मदिन है और मैं आपको चोकलेट देने आई थी. तो वो बोले कि अरे वाह तारावती तुम्हे अपना जन्मदिन मुबारक हो और वो हाथ आगे करते हुए बोले और फिर तारावती भी उनसे हाथ मिलाती है. आज तो खुराना को तारावती के हाथ कुछ ज़्यादा ही नरम लग रहे थे.. तो तारावती कहने लगी कि बहुत धन्यवाद खुराना. फिर खुराना बोले कि अंदर तो आओ तारावती. तो तारावती कहने लगी कि नहीं खुराना अभी मुझे घर पर जाना है.

तो खुराना बोले कि ओह आज तुम्हारा जन्मदिन है और मुझे अच्छी तरह से तुम्हे विश तो करने दो चलो आओ अंदर बैठो सोफे पर. फिर वो अंदर आकर सोफे पर बैठ गई.. खुराना कहने लगे कि लाओ अब चोकलेट लूँगा. जैसे ही तारावती ऑफर करने के लिए आगे को झुकी.. खुराना को तारावती के बूब्स दिखने लगे और वो मन ही मन सोचने लगा कि आज तो इस लड़की के साथ कुछ मज़ा लेकर ही रहूँगा.

खुराना : हम्म बहुत बढ़िया चोकलेट हैं तारावती.

तारावती : धन्यवाद खुराना.

खुराना : तारावती तुम अब कितने साल की हो गई हो?

तारावती : आप ही अंदाजा लगाओ. फिर यह बात सुनते ही खुराना का माथा घुमा और एक शैतानी आईडिया उसके दिमाग़ में आया और वो झट से बोल पड़ा 12 साल की क्यों ठीक है ना?

तारावती : नहीं खुराना बिल्कुल ग़लत जवाब है.

खुराना : ओह तो तुम 13 साल की हो गई हो क्यों अब तो बिल्कुल ठीक है?

तारावती : जी नहीं खुराना यह भी गलत जवाब है.

खुराना : तो फिर 11 साल की?

तारावती : नहीं खुराना आप तो बुद्धू हो मैं तो 18 साल की हूँ.

खुराना : तारावती तुम झूठ बोल रही हो.

तारावती : नहीं मैं एकदम सच कह रही हूँ.

खुराना : यह हो ही नहीं सकता की तुम 18 साल की हो.

तारावती : अरे खुराना मैं सच कहती हूँ.

खुराना : मजाक मत कर.

तारावती : नहीं खुराना मैं आपको कैसे यकीन दिलवाऊं कि मैं 18 साल की हूँ और आप ही बताओ कि क्या फर्क होता है 12 साल और 18 साल की लड़की में?

खुराना : अरे तारावती 18 साल की लड़की की तो छाती बड़ी हो जाती है तू तो अभी बच्ची है झूठी.

तभी तारावती बोली कि मेरी भी तो बड़ी हुई है आप खुद ही देखिए और तारावती अपने बूब्स आगे को करते हुए यह देखिए कितने बड़े है कहने लगी. तो खुराना कहने लगे कि दिखा जरा यह कहते ही खुराना खुराना ने तारावती के बूब्स पर हाथ रख दिया और हल्का सा दबाने लगे. फिर तारावती बोली कि नहीं नहीं पहले से तो यह थोड़े बहुत बड़े है खुराना रुकिये मैं आपको अपनी टी-शर्ट उतारकर दिखाती हूँ. फिर वो भोली लड़की अपनी बात सही करने के लिए खुराना के जाल में फंस गई. तभी यह सुनकर खुराना तो मन ही मन मैं नाच उठा.

खुराना : हाँ हाँ खोलकर दिखा छोटी तो है.

तभी तारावती ने अपना टॉप उतार दिया और उसने एक छोटी सी ब्रा पहनी हुई थी जिसमें से उसके बूब्स साफ साफ दिख रहे थे और वो अपने बूब्स को ऐसे दिखा रही थी जैसा कोई अपना पास सर्टिफिकेट दिखा रहा हो. तो खुराना ने उसका फायदा उठाते हुए उसके बूब्स ब्रा के ऊपर से पकड़ लिए और कहने लगा कि यह तो तुमने अपने बूब्स पर ब्रा का कपड़ा मोटा डाला है. छाती तो तुम्हारी पतली ही है.. तो तारावती कहने लगी कि आप ऐसे मुझे बेवकूफ़ मत बनाओ और यह बात सुनते ही तारावती को बहुत गुस्सा आ गया.

उसने झट से ब्रा को पूरा उतार दिया और दोनों हाथ हवा में करके बोली कि यह देखिए खुराना मेरी छाती मोटी हुई है.. देखिए अच्छी तरह आप हाथ लगा कर देखिए. तभी खुराना ने झट से दोनों बूब्स पकड़ लिए और उन्हें ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और निप्पल भी खींचने लगा. तभी तारावती बोली कि खुराना यह क्या कर रहे हो? तो वो कहने लगा कि मैं देख रहा हूँ कि यह असली हैं या नहीं और चेक करने के बहाने से खुराना 5 मिनट तक कभी एक और कभी दोनों हाथों से बूब्स को दबाता रहा.. फिर कहने लगा कि लगते तो असली हैं.. हाँ हो सकता है कि तुम 18 की हो गई हो.

तारावती : क्यों आपको अभी भी यकीन नहीं हुआ?

खुराना : अरे छाती तो मोटापे से भी बड़ जाती है मुझे अभी भी नहीं लगता कि तुम 18 साल की हो गई हो.

तारावती : ओफ्फो आप तो मानते ही नहीं खुराना.

खुराना : तारावती 18 साल की लड़की के तो बाल भी होते हैं.

तारावती : वो अपने सर पर हाथ फेरते हुए बोली कि बाल तो मेरे भी हैं यह देखिए कितने काले, लंबे, घने.

खुराना : अरे यहाँ तो होते ही हैं.. और भी तो बाल होते हैं?

तारावती : लेकिन कहाँ पर खुराना?

खुराना : क्या जहाँ से तुम पेशाब करती हो तुम्हारे वहाँ पर भी बाल हैं?

तारावती : हाँ है ना खुराना बहुत घने बाल है.

खुराना : चल हट झूठी.

तारावती : नहीं खुराना मैं सच कह रही हूँ.

खुराना : तो फिर चल दिखा.

तारावती : नहीं खुराना मुझे बहुत शरम आती है.

खुराना : आहहा देखा झूठी है ना तू और इसलिए बहाने बनाती है.

तारावती : नहीं खुराना यह बात नहीं है.

खुराना : तो दिखा फिर.

मित्रगणों, खुराना सोफे पर आराम से बैठ गया और फिर तारावती अपनी सफाई देने के लिए खड़ी हुई.. वो ऊपर से तो पहले से ही नंगी थी और अब वो अपनी जिन्स उतारने लगी और वो सिर्फ अपनी गुलाबी कलर की पेंटी में रह गई थी और बहुत शरमाते हुए उसने अपनी चूत के बालों की एक झलक दिखाकर जल्दी से कुछ सेकंड में ही अपनी पेंटी को ऊपर कर लिया. खुराना बोला कि अरे यह क्या यह तो दिखा ही नहीं थोड़ी अच्छी तरह दिखा.. थोड़ा इधर मेरे और पास आ.

मित्रगणों , फिर तारावती थोड़ा आगे आ गई.. तो खुराना ने हल्के से उसकी पेंटी को उतार दिया. तभी तारावती शरम से अपनी दोनों टाँगें आपस में जोड़कर खड़ी हो गई और फिर खुराना ने प्यार से उसके चूत पर हाथ रखा और बाल खींचने लगा और वो फिर से चेक करने के बहाने से उसकी चूत को गरम करके मसलने लगा. तो तारावती शरमाते हुए बोली कि क्यों अब यकीन हुआ आपको?

खुराना : हाँ अब यकीन हुआ कि तुम 19 साल की हो गई हो.

मित्रगणों, अब तारावती को भी ये सब करवाने में मजा आ रहा था. फिर तारावती ने अपने कपडे पहने और अपने घर चली गई. खुराना ने तारावती को कभी नहीं चोदा.. क्योंकि उन्हें कुवांरी लड़की की सील तोड़ने में डर लग रहा था कि कहीं कुछ ना हो जाये. खुराना रोज उसे अपने घर किसी ना किसी बहाने से बुलाते थे और उसके जिस्म का मजा लेते थे. तारावती को भी अपनी जवानी लुटवाने में बड़ा मजा आता था. दोनों एक दूसरे के अंगो को बड़ा प्यार करते थे. तारावती खुराना के लंड को जी भरकर चूसती और उसका पानी निकाल देती थी और खुराना भी तारावती की चूत को चाटते और तारावती की कामुकता को ठंडा करते थे. आज तारावती को लंड चूसने का पूरा अनुभव हो चुका है .. और वो सिसकियाँ भर रही थी आहहहह  उई उईईईईई... और करो थोड़ी देर... प्लीज. मेरी चूत मे वीर्य निचोड़ दो.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।