मुख्य पृष्ठ » चुदाई की कहानी » गर्लफ्रेंड की माँ की चुदाई


गर्लफ्रेंड की माँ की चुदाई

Posted on:- 2022-07-25


और  सुनाये  मित्रो आप सब कैसे है, मेरा नाम सुनील सिंह  हैं और मैं भदोही , उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ. मित्रो मुझे भोसड़े  में और गांड में लंड देने में बहुत मजा आता हैं और मेरी एक गर्लफ्रेंड भी हैं. उसका नाम राजकुमारी हैं और वो एक ओरिया लड़की हैं. इस लड़की की  भोसड़े  में मैंने अभी तक कितनी बार भी लंड दिया हैं. उसके घर पे भी मुझे सब जानते हैं और वो मुझे उसका केवल दोस्त समजते हैं. मैंने इसी बात का फायदा उठा के राजकुमारी की भोसड़े  में उसके घर पे ही कितनी बार लौड़े से खुदाई की हुई हैं. लेकिन आज मैं आप को उसकी माँ की भोसड़े  में लंड देने की बात बताने जा रहा हूँ. राजकुमारी की माँ का नाम पूनम  हैं और वो किसी भी एंगल से 35 साल के उपर की नहीं लगती हैं. वैसे वो हैं तो 35 के ऊपर लेकिन उसने अपनी गांड, चुंचे और शरीर का कसाव अभी भी ऐसे रखा हैं की वो जवान जैसे ही दिखती हैं. उसके चुंचे बड़े, गोल और लचीले हैं. मैंने एक दो बार जब वो घर के बाहर कपडे धो रही थी तब ऊपर की नंगोल से देखा था. ऊपर से उसके चुंचो के बिच की गली बहुत ही मादक दिखती थी; लेकिन राजकुमारी मेरे साथ होने से मैं ज्यादा देख नहीं पाता था. यह बात जून 2013 की हैं, सनीचर का दिन था और कोलेज से हम लोग जल्दी घर आ गए थे. राजकुमारी ने मुझे उसके घर उसकी भोसड़े  में लौड़ा डालने के लिए बुलाया था, पढाई के बहाने. मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.

 ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा मैं जब भोसड़े  में लंड देने के सपने देखता हुए उसके घर पहुंचा तो मुझे पूनम  आंटी ने बताया की राजकुमारी तो अंजली और जमीला के साथ पिज़ा खाने के लिए चली गई हैं. मैं मनोमन चिढ गया की साली मुझे चुदाई के लिए बुलाती हैं और खुद पिजा की माँ चोदा पेली  गई हैं. मैं वही वरंडे से ही निकलने वाला था लकिन पूनम  आंटी के कहने पे मैं अंदर गया और बैठा. मैंने राजकुमारी को वहीँ से फोन किया और उसने मुझे कहा की उसे आने में अभी 1 घंटा लगेगा. मैंने उसे कहा ठीक हैं. उसने मुझे इशारो इशारो में अपने कमरे में वेट करने के लिए कहा. साली की भोसड़े  में खुजली थी तो फिर पिज़ा खाने क्यूँ गई थी. मुझे गुस्सा आ रहा था लेकिन पूनम  आंटी खड़ी थी इसलिए मैंने आराम से बात की. पूनम  आंटी तभी पानी ले के आई और मेरे सामने सोफे में बैठ गई. मैंने देखा की आंटी की लॉन्ग गाउन पीछे से फटी हुई थी और अंदर की काली पेंटी दिख रही थी. शायद आंटी ने गाउन के निचे सिर्फ ब्रा पेंटी पहनी थी. बहुत सारी औरतो को ऐसे खुले में घुमने का सौख होता हैं. मेरा लंड वैसे भी भोसड़े  में जाने के लिए तो तैयार था और आंटी की पेंटी देख के मैं और भी होर्नी हो गया. आंटी को मैंने अंकल के बारे में पूछा. आंटी ने बताया की घर के नौकर रामु  काका के वहाँ शादी हे इसलिए अंकल वहाँ गए हैं. घर में उस वक्त आंटी और मेरे अलावा कोई नहीं था. और एक कहावत के अनुसार मेरेदिल मैं शैतान जाग ही उठा था. क्या बताऊ दोस्तों  उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये लेकिन मैंने सोचा की माँ को छेड़ा तो बेटी की भोसड़े  से भी हाथ धोना पड़ेगा. तभी आंटी उठ के मेरे लिए सेब काट के ले आई और अब की बार वो मेरे पास आके बैठ गई.

 दोस्तों क्या मलाई वाला माल लग रहा था मुझे पूनम  आंटी का यह कदम शक पैदा करने वाला लगा. उसने अपनी जांघो को मेरी जांघो से सटा के रखी हुई थी. मेरी साँसे फूलने लगी और साथ साथ मेरा लंड भी. मैं आंटी से नजरे नहीं मिला पा रहा था क्यूंकि मेरे दिल में खोट थी उसकी भोसड़े  चोदा पेली  की. लेकिन जबब मैंने आंटी की तरफ देखा तो वो भी जैसे नजरे चूरा रही थी. तो क्या पूनम  आंटी को भी मुझ से चुदवाना था.? मैं मनोमन सोचने लगा की चलो देखते हैं की बूढी घोड़ी कहाँ तक भागती और भगाती हैं. मैंने हलके से अपनी जांघ को आंटी की जांघ से थोडा और सटा दिया और आंटी कुछ नहीं बोली. मेरे होश तो तब उड़ने वाले थे जब आंटी ने मुझे कहा, विकास चलो बेडरूम में बैठेंगे. यहाँ गर्मी हैं, मैं वहाँ एसी चला देती हूँ. मैं पूनम  आंटी की भोसड़े  में हुई खुजली को भांप गया. आंटी मेरे आगे चल रही थी और मैं उसकी इधर से उधर मटक मटक के चलती मटके के जैसे गांड को देख रहा था. मेरा लंड अब काबू के बाहर होने लगा था. बेडरूम को अंदर से बंध कर के आंटी ने मुझे बिठाया और एसी ओन कर दी. मुझ से रहा नहीं गया और आंटी जब स्विच के पास थी तभी मैंने खड़े हो के टेबल से मैगज़ीन इस तरह उठाये की मेरा लंड उसकी गांड के उपर टच हो गया. आंटी कुछ भी नहीं बोली. लेकिन मेरे लौड़े की गर्मी उसे जरुर महसूस हुई होगी. मैंने जानबूझ के एक दो मैगज़ीन टटोले ताकि लंड और गांड का कनेक्शन थोड़ी देर तक जमा रहे. आंटी कुछ नहीं बोल रही थी, ना वो अपनी गांड हटा रही थी. मैंने मैगज़ीन को वापस रखा और सीधे आंटी की कमर के ऊपर हाथ रख के उसे सहलाने लगा. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.


 अब सुनिए चुदाई की असली कहानी आंटी की साँसे फुल चुकी थी, शायद उसकी भोसड़े  भी मेरे जैसे जवान लंड का सहवास मांग रही थी. और आंटी ने आज मौका देख के मेरे लंड को भोसड़े  से भिगोने का फैसला कर ही लिया था शायद. मैंने अपने हाथ को अब आंटी की कमर से उठा के उनके बूब्स के उपर रख दिए. आंटी बोली, विकास क्या कर रहे हो. मैंने कहा आंटी कुछ नहीं, बस आप बहुत प्यारी हैं इसलिए आप को प्यार दे रहा हूँ. आंटी ने हंसी से मेरे जवाब को चुदाई की मुहर लगा दी. मुझे उसके हंसने से पता चल गया की उसे भी लंड की खुराक अपनी भोसड़े  में लेने का मन था ही. मैंने उसके गाउन को उठाया. सर्कस के तंबू के जैसे गाउन को उठाते ही आंटी की लाल ब्रा और काली पेंटी मेरे सामने आ गए. आंटी ने ब्रा पेंटी के ऊपर ही गाउन डाल दिया था वैसा मेरा अंदाजा बिलकुल सही था. मैंने आंटी के कंधे को पकड़ के उनको अपनी तरफ घुमाया और धीरे से उनके बूब्स को पकड़ लिया. आंटी के बूब्स बड़े थे लेकिन लचीले और अंदर से सख्त थे. मैंने पीछे हाथ ले जा के ब्रा का हुक खोल दिया. बिलकुल किसी जवान औरत के जैसे ही आंटी के चुंचे मस्तियाँ रहे थे. मैंने चुंचो को थोडा मसलने के बाद अपना मुहं उनके उपर रख दिया. आह आंटी की मादक  निपल्स मेरे मुहं में थी…सच बताऊँ दोस्तों राजकुमारी के चुंचो से तो उसकी माँ के चुंचे ज्यादा अच्छे थे. मैंने जोर जोर से दोनों चुंचो का रसपान किया और आंटी मेरे शर्ट के बटन खोलने लगी. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मित्रों वहा जबरजस्त माल भी थी मित्रों.

  ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मित्रों देखते ही देखते आंटी ने मुझे नग्न कर दिया. वो मेरे लंड को अपने हाथ से मल रही थी और मुझे उसके ऐसा करने से बहुत ही मजा आ रहा था. आंटी ने लंड के सुपाड़े को अपने दोनों हाथ के बिच पकड़ा और जैसे वो बेलन को हाथ के बिच रगड़ रही हो वैसे रगड़ने लगी. मुझे आंटी का यह अजीब खेल समझ में नहीं आया लेकिन मजा उसमे जरुर भरा हुआ था. पूनम  आंटी की पेंटी को मैंने अब धीरे से उतारा. उसकी भोसड़े  में चांदी जैसे चमक थी, साली आंटी बाल भी नीकाल के बैठी हुई थी. 
 मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मित्रों मैंने आंटी की भोसड़े  में धीरे से अपनी ऊँगली डाली और ऊँगली की चारोतरफ मुझे चिकनाहट और गर्मी का अहेसास हो रहा था. आंटी ने अपनी आँखे बंध कर दी, उसके लिए यह शायद असहय हो चला था. मैंने ऊँगली को जरा सा जोर लगा के पूरी के पूरी उसकी भोसड़े  में दे दी. आंटी आह ओह ओह आअह्ह्ह्ह कर रही थी और मैंने उसकी भोसड़े  को अपनी ऊँगली से मस्त चोद रहा था. आंटी अब बिस्तर के ऊपर लेट गई और मैं जा के उसकी दोनों टांगो के बिच बैठ गया. मैं इतनी चिकनी भोसड़े  को देख के उस में जबान डालने का मौका जाने नहीं देना चाहता था. मैंने सीधे अपनी गर्दन को झुकाया और आंटी के भोसड़े  में जबान डाल दी. आंटी की आह आह और भी तेज हो गई. मैंने धीरे धीरे कर के पूरी जबान को भोसड़े  में घुसा डाला. आंटी ने मेरे माथे के बालो नोंच डाला. उसे भी इस मादक  मुखमैथुन से बहुत मजा आ रहा था. मैंने आंटी की दोनों जांघो को पकड़ा हुआ था और मैं उसकी भोसड़े  की गहराई तक अपने जबान से जैसे की चुंबन दे रहा था. आंटी आह आह ऊह ओह ओह आह…विकास्स्स्स विकाआआअस्स्स्स…ऐसे आवाज निकाल रही थी. आंटी की चिकनी भोसड़े  को चाटने का अपना अलग ही मजा था दोस्तों. मैंने राजकुमारी की भोसड़े  भी अगिनित बार चाटी थी इस से पहले. शायद मैं बहुत कम लोगो में से था जिसने माँ बेटी दोनों की भोसड़े  चाटने का सौभाग्य पाया था. आंटी भी अब मस्त मस्तियाँ गई थी उसने मेरे बड़ी जुल्फों को नोंच के बड़ी ख़राब कर दी थी. मैंने अब खड़े हो के अपना लंड पूनम  आंटी कके मुहं के करीब रख दिया. पूनम  आंटी को पता था की उसे क्या करना हैं, उसने सीधे लंड के सुपाड़े के ऊपर अपनी जबान फेरी और अपनी भोसड़े  में ऊँगली डाल दी. वो एक तफ़र अपनी भोसड़े  को ऊँगली कर रही थी और इधर मेरे लंड को चूस रही थी. आंटी ने बहुत ही मादक  तरीके से लंड को चूसा था. वो जैसे की स्ट्रॉ से कुछ पी रही हो वैसे लंड को खिंच खिंच के चूस रही थी. मैंने भी आंटी के मुहं को दोनों हाथो के बिच में लिया और अपने लंड के जोर जोर के धक्के उसके मुहं में मारने लगा. आंटी के मुहं से थूंक निकल के उसके होंठो की साइड से बाहर आ रहा था. उसके मुहं की माँ चुद गई थी. कुछ भी  हो माल एक जबरजस्त था उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये.

उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है  ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है
 मैंने लौड़े को अब आंटी की भोसड़े  के ऊपर रखा और धीरे धीरे कर के पूरा के पूरा लंड आंटी की भोसड़े  में घुसेड दिया…..! पूनम  आंटी आहा अह हह ह्हह्ह्ह्हाआ करती रही और मैं जोर जोर से उसकी भोसड़े  को छेद रहा था. आंटी की भोसड़े  की गर्मी मेरे लौड़े के ऊपर मजे से महसूस हो रही थी. आंटी की भोसड़े  के अंदर जब पूरा लंड जाता था तो वो मेरे लंड को अंदर कस लेती थी. मेरे लंड के ऊपर अजब दबाव आ जाता था और ऊपर से भोसड़े  की मादक  गर्मी. सही में बड़ी चुदक्कड थी मेरी गर्लफ्रेंड राजकुमारी की माँ. मैंने अब पूनम  आंटी की टांगो को थोडा ऊपर किया और फिर उन्हें उठा के अपने कंधे के ऊपर रख दिया. पूनम  आंटी की भोसड़े  में मेरा लंड इस वक्त भी धरा के धरा हुआ ही था. मैंने आंटी की दोनों टांगो को कंधे पर रखते ही आंटी की भोसड़े  के अंदर जैसे की मेरा लंड और भी धंस गया. मुझे लगा की मैं भोसड़े  के अंदर लौड़े को और घुसाने में सफल हुआ था. अब मैंने आंटी के घुटनों के पीछे वाले हिस्से में अपने हाथ दिए और मैंने जोर जोर से आंटी की भोसड़े  को मारने लगा. पूनम  आंटी भी जैसे की आज लंड को परास्त करने के मुड में थी. उसने भी भोसड़े  उठा उठा के मुझे से चुदाई करवाई. 10 मिनिट की हार्डकोर चुदाई के बाद जब मेरा लंड पानी छोड़ने वाला था तभी आंटी ने मुझे लंड भोसड़े  में से बहार करने के लिए कहा. है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई.


 उसका भोसड़ा का छेड़ गजब का था मित्रों  जैसे ही मैंने लौड़े को भोसड़े  से बहार निकाला, आंटी निचे बैठ के मुहं के अंदर लंड को लेके उसे जोर जोर से चूस देने लगी. भोसड़े  में से निकले लौड़े को पानी छोड़ने में जरा भी देर नहीं हुई और यह भूखी शेरनी जैसी पूनम  आंटी सारा मुठ पी गई. हमने कपडे पहन लिए और पूनम  आंटी मेरे लिए नास्ता ले के आई. कुछ मिनिट बाद राजकुमारी भी आ गई. मैंने एक घंटे के बाद उसकी भोसड़े  को भी लंड से दे मारा. अब मैं अक्सर जब अंकल नहीं होते तब इनके घर आता जाता हूँ, राजकुमारी मिली तो ठीक हैं नहीं तो आंटी की गांड और भोसड़े  तो मेरे स्वागत में खुली ही रहती हैं.. उसकी बूब्स  देखते ही उसको पिने की इच्छा हो गयी आखिरकार राजकुमारी को चोदकर मई संतुष्ट हो गया.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।