मुख्य पृष्ठ » बीवी की चुदाई » पति पत्नी की अदला बदली


पति पत्नी की अदला बदली

Posted on:- 2021-08-31


मेरे मित्रगणों  मै आप सब का हार्दिक अभिनंदन करता हु,  आज में अपनी सच्ची कहानी आप सबको सुना रहा हूँ, जो आपको बहुत पसंद आएगी. में 45 साल का हूँ और मेरी वाईफ 40 साल की है, मेरा नाम जुबेर चांदनी  और मेरी वाईफ का नाम अर्चना  है. मेरी हाईट 5 फुट 5 इंच, वजन 75 किलोग्राम और मेरी वाईफ की हाईट 4 फुट 9 इंच, वजन 60 किलोग्राम है, अब मेरे बाल भी झड़ रहे है और अर्चना  भी हेयर विग लगाती है. हमारी शादी को हुए 32 साल हो गये है, हमारे दो बेटे है जो बाहर रहते है, उन दोनों की शादी हो गई है. अच्छा दोस्तों गांड मरने का अपना अलग मजा है आप लॉप ने कभी न कभी तो किसी न किसी की गांड मरी ही होगी .

 क्या दोस्तों आपने कभी भाभी को चोदा है कितना मजा आया बताना जरा मेरी वाईफ शक्ल से गोरी और मोटी है, उसका फिगर साईज 38-40-42 है और में भी मोटा हूँ, छाती 42, कमर 40 है, मेरा लंड छोटा करीब 4 इंच लम्बा और 2 इंच मोटा है. मेरे बेटो के जाने के बाद हम दोनों मिया बीवी अकेले हो गये थे. अब हमें हमारी सेक्स लाईफ बोर लगने लगी थी और में अर्चना  को बोलता था कि तुम्हारी हाईट बहुत छोटी है तो मज़ा नहीं आता है कम से कम 5 फुट हाईट तो होनी चाहिए, में उसको ताना देता था कि तुम्हारा मैच तो मेरे दोस्त सुरेंद्र मेहता  से मिलता है, जिसकी हाईट मुश्किल से 5 फुट से थोड़ी ज़्यादा थी. मोटी गांड वाली लड़कियों की बात ही कुछ और है.

 क्या गजब चुदकड़ अंदाज थी फिर कुछ दिन तो वो सुनती रही और एक दिन बोली कि आप का मैच भी कल्पना  से मिलता है यानि सुरेंद्र मेहता  की वाईफ जो 5 फुट से ज़्यादा लंबी थी. यह बात उसने जब कही जब में उसकी चुदाई कर रहा था, तो यह सुनते ही मुझे लगा कि मेरे नीचे अर्चना  नहीं कल्पना  है और मुझे चुदाई करने में और मज़ा आने लगा और अर्चना  मुझे बहुत अच्छी लगने लगी. अब में कस-कसकर चुदाई करने लगा था, तो तभी वो बोली कि वाह आज तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है और जब हम दोनों झड़ गये तो हमें लगने लगा कि दूसरे के बारे में सोचकर चोदने में बहुत मज़ा आता है. लड़किया क्युआ गजब चुदकड़ होती है दोस्तों.


 मेरे मित्रगणों  क्या मॉल थी उसकी चुची पीकर मजा आ गया फिर एक दिन सुरेंद्र मेहता  और कल्पना  हमसे मिलने आए, तो हमें लगा कि जिस घड़ी का इंतज़ार कर रहे है वो घड़ी आ गई है. फिर हम लोगों ने खाना खाया और हॉल में बैठकर बातें करने लगे, तो बातें करते- करते मेरी नजर कल्पना  पर जमने लगी और अर्चना  की नजरे भी सुरेंद्र मेहता  के शरीर पर ठहर गई. फिर मैंने सुरेंद्र मेहता  से कहा कि अर्चना  कद में बहुत छोटी है मेरा मैच नहीं मिलता है, तो कल्पना  बोली कि यह तो चलता ही है में भी लंबी पूरी हूँ और यह छोटे है, क्या करे? मेरा मैच तुमसे मिलता है और इनका अर्चना  से मिलता है. फिर सुरेंद्र मेहता  बोला कि छोटा बड़ा होने से क्या होता है? लंड बड़ा होना चाहिए, मेरा पूरा 7 इंच का है, तुम्हारा है इतना बड़ा? तो अर्चना  बोली कि नहीं इतना बड़ा इनका नहीं है, इनका तो छोटा है. फिर इसी तरह चुहल बाज़ी से हम हॉट होने लग गये तो मैंने कहा कि आज तो अदला बदली हो जाए, देखे किसको किसके साथ मज़ा आता है? मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.

 क्या दोस्तों आपने अपने बहन की चूची को दबाया है अब सुरेंद्र मेहता  को मेरी बात जम गयी थी और फिर हम दोनों खड़े हो गये. अब में कल्पना  के पास बैठ गया था और सुरेंद्र मेहता  अर्चना  के पास चला गया था. कल्पना  लंबी भरे हुए शरीर की है, वजन 66 किलोग्राम, फिगर साईज 38-36-42 है. फिर मैंने उसकी पीठ पर अपना एक हाथ रखा और उसे अपनी तरफ खींचा, तो वो मेरे सीने से लग गई. फिर मैंने पहले उसके होंठो पर किस किया और फिर उसके होंठो को अपने मुँह में लेकर किस करना शुरू किया और फिर ऊपर से ही उसकी चूचीयाँ दबानी शुरू कर दी, तो वो जल्दी ही हॉट हो गई और मेरे गले में अपनी बाहें डालकर मुझसे ज़ोर से चिपकने लगी. मेरे प्यारे दोस्तो चुची पिने का मजा ही कुछ और है.


 ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा  फिर तभी मैंने उसकी साड़ी खींच दी तो उसका ब्लाउज मेरे सामने आ गया, तो मैंने उसके ब्लाउज के बटन खोल दिए. अब उसकी ब्रा में से उसके बूब्स साफ़-साफ़ नजर आने लगे थे. फिर मैंने उसका ब्लाउज पीछे से उतारकर खोल दिया और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स मसलने लगा. अब उसकी आँखे बंद थी और वो आह-आह कर रही थी. मेरे मित्रगणों  चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है    .


 क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये  मैंने उसे खड़ा करके उसकी साड़ी पूरी खोल दी और उसकी ब्रा का हुक खोलकर उसे नीचे फेंक दिया. अब वो सिर्फ़ पेटिकोट में थी, तो तभी मैंने देखा कि सुरेंद्र मेहता  एकदम पूरा नंगा खड़ा था और अर्चना  जो पेटिकोट में थी, उसके बड़े-बड़े बूब्स अपने मुँह में लेकर चूस रहा था. उसका 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लंड एकदम तना हुआ था और अर्चना  उसको अपने एक हाथ में लेकर मस्त हुए जा रही थी. फिर मैंने यह नज़ारा देखा तो में एकदम हॉट हो गया. मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है.


 मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था     अब मेरा लंड भी मेरी पेंट में हिलोरे लेने लगा था तो तभी में अपने सब कपड़े उतारकर नंगा हो गया और कल्पना  के पूरे बूब्स को ज़ोर-जोर से अपने मुँह में भरकर चूसने लगा. अब कल्पना  भी मस्त हो रही थी और अपने एक हाथ में मेरा लंड पकड़कर सहलाने लगी थी. फिर में कल्पना  को बाँहों में भरकर बेडरूम में ले गया और उसे डबल बेड लेटा दिया और उसके पास बैठकर उसके बूब्स को अपने मुँह में भर लिया. अब उसने मस्त होकर अपनी आँखें बंद कर ली थी. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए


 साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है  कुछ देर के बाद सुरेंद्र मेहता  भी अर्चना  को बेडरूम में लेकर आ गया और वो दूसरे बेड पर चले गये. फिर अर्चना  ने उसका इतना मस्त लंड देखा, तो वो मस्त होकर बेड के नीचे आकर अपने घुटने पर बैठकर सुरेंद्र मेहता  का लंबे और मोटे लंड की मुलायम स्किन को खींचकर उसके सुपाड़े को अपने मुँह में लेकर चाटने लगी. अब में भी यह सब देखकर मस्त हो गया और धीरे-धीरे अपने मुँह को नीचे लाया और उसकी नाभि में अपनी जीभ घुमाने लगा और फिर उसकी चूत में क्लिट को चाटने लगा. अब सुनिए चुदाई की असली कहानी.


 मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया फिर कल्पना  के बदन ने जैसे बिजली का झटका खाया और उसने ज़ोर से मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा दिया. अब वो ज़ोर-जोर से आगे पीछे होने लगी थी और मुँह से आवाजे निकाल रही थी आआआआआआआहह और प्यार से और प्यार से चाटो, आआआजज तो माआआआआजा आआआअ आआआ आआआआआआ गयययययययया, ऐसा मज़ा मुझे कभी नहीं आया था. फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चूत की दीवारों में घुसा दी और उसे अपनी जीभ से ही चोदने लगा. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों  .


 मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया अब उधर सुरेंद्र मेहता  की आवाजें आ रही थी कि अर्चना  रानी और चूसो, पूरा मुँह में ले लो, बहुत मज़ा आ रहा है, ऐसा कभी नहीं आया. अब यह बातें सुनकर मेरा लंड अपने आपे से बाहर हो रहा था. फिर तभी एकाएक कल्पना  बोली कि ओह अब में मर गईईईईईईईईईईईई और फिर उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. मुझे ऐसा लगा कि मेरे मुँह में उसका रस भर गया और मैंने उसके रस की आखरी बूँद तक चाट ली. अब मेरी बारी थी, फिर मैंने सुमन की दोनों टांगे फैला दी और उसकी दोनों टांगो के बीच में आ गया. फिर उसकी दोनों टांगो को अपने कंधे पर रखकर अपने लंड का सुपाड़ा उसकी चूत के मुँह पर रखकर ज़ोर से एक धक्का दिया, उसकी चूत तो पहले ही पानी से चिकनी थी तो मेरा लंड उसकी चूत में घुसते ही पूरा चला गया और उसकी चूत के तले से जाकर टकराया, तो सुमन के मुँह से एक सिसकारी निकली. फिर मैंने मेरा लंड पूरा बाहर खींचा और फिर ज़ोर से एक धक्का दिया, तो वो मस्ती से किलकारी भरती हुई आवाज़े निकालने लगी आहह करते ज़ाआाआआआआओं, बहुत मजा आआआआआआ रहा है. मेरे मित्रगणों  चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया अच्छा दोस्तों क्या आपने किसी लड़की को चोदा है सच्ची बताना.


अब में ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने लगा था. फिर तभी सुमन बोलने लगी कि और ज़ोर से चोदो, राज़ा फाड़ दो मेरी चूत को, आआआआआआ करते ज़ाआआआआओ, ओह-ओह में हाईईईईईईई गईईईईईईईईईई, में हाईईईईईईईईईईईईई गई और इस तरह से आनंद लेते हुए उसकी चूत ने एक बार फिर से अपना पानी छोड़ते हुए मेरे लंड का अभिषेक कर दिया. अब में और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा था और मुझे ऐसा लगा कि दुनिया की सारी मस्ती मेरे लंड पर आ गई है और मैंने आआआआआआ करते हुए मेरे लंड ने पिचकारी छोड़ दी और उसकी सारी चूत मेरे वीर्य से भर गई. अब उसने मस्त होकर अपनी आँखें मूंद ली थी.

फिर कुछ देर तक में इसी तरह से पड़ा रहा और फिर हम अलग हो गये. अब उधर सुरेंद्र मेहता  भी अर्चना  की मस्ती से चुदाई किए जा रहा था. अब अर्चना  को उसके लंबे मोटे लंड की चुदाई में बहुत लुत्फ़ आ रहा था. अब वो आहह, ऊहहहह की आवाजें निकाल रही थी और बोल रही थी कि आज जैसा मजा कभी नहीं आया, किए जाओ, किए जाओ, मेरी चूत फाड़ दो और जोर से, ओह में अब झड़ने वाली हूँ, आआआआआआआ, आहह करके उसने अपनी चूत के पानी से सुरेंद्र मेहता  के लंड को नहला दिया. अब सुरेंद्र मेहता  ज़ोर जोर से उसकी चुदाई किए जा रहा था, तो तभी एकाएक उसके धक्को की स्पीड बढ़ गई और ओह कहते हुए उसके लंड ने अर्चना  की चूत में फव्वारा छोड़ दिया. अब अर्चना  ने मदहोशी में अपनी आँखें मूंद ली थी. फिर इसी तरह से हमारा यह सिलसिला काफ़ी दिनों तक चलता रहा और हमने खूब मजा किया.

What did you think of this story??


अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।