मुख्य पृष्ठ » बीवी की चुदाई » मेरी बीवी के दिल की बात


मेरी बीवी के दिल की बात

Posted on:- 2024-07-09


कैसे है आप सब आशा है अच्छे होंगे और चुदाई के जुगाड़ में होंगे, में आप सभी को अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ, जो दो महीने पहले हुई एक सच्ची घटना है, जिसमे मेरी पत्नी अपने बॉस से चुदी. दोस्तों मेरी पत्नी जिसका नाम नमिता रावत  है. वो दिखने में बहुत ही सुंदर और एकदम मस्त है. उसके फिगर का साईज 36-38-40 है. वो थोड़ी सी मोटी जरुर है लेकिन वो बहुत हॉट चुदकड़  और बिल्कुल दूध जैसी गोरी है. अभी हमारी शादी को एक साल हुआ है. मोटी गांड वाली लड़कियों की बात ही कुछ और है.


 लड़किया क्युआ गजब चुदकड़ होती है दोस्तों उसकी उम्र करीब 25 साल है और हमने अपने घरवालों की मर्जी के बिना घर से दूर भागकर शादी की है और अब में अपनी आज की स्टोरी पर आता हूँ. मेरी पत्नी नमिता रावत  एक बहुत ही हॉट चुदकड़  दिखने वाली लड़की है, मेरा मतलब है कि उसे सेक्स गुप् चुप  करना बहुत पसंद है और हमारी शादी से पहले भी वो इन्टरनेट पर बहुत सेक्स गुप् चुप  किया करती थी और हमारी सेक्स लाईफ तब तक बहुत अच्छी तरह से चल रही थी कि तभी अचानक एक दिन मेरी वाईफ रात को चुदाई करवाते हुए मुझसे बोली कि काश तुम्हारा लंड थोड़ा बड़ा और मोटा होता. दोस्तों मेरे लंड का साईज 5 इंच है और फिर मैंने नमिता रावत  से पूछा कि तुम यह क्या कह रही हो, क्या तुम्हे इससे चुदकर संतुष्टि नहीं मिलती जो तुम ऐसी बातें कर रही हो? तो वो बोली कि मैंने तो बस ऐसे ही बोल दिया. लेकिन मेरे दिल में उसकी वो बात अटक सी गई. में पूरी रात उसके वो कहे शब्द सोचता रहा कि उसको शायद मेरे लंड से बड़ा लंड चाहिए, जो उसकी चूत की प्यास बुझा सके और यही सब सोचकर ना जाने कब में सो गया और उसके अगली सुबह सब कुछ पहले की तरह था. मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.


 ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा  तो मैंने सोचा कि क्यों ना फिर से अपनी वाइफ के दिल की बात पता की जाए कि उसके दिल में क्या चल रहा था. पिछली रात तो उसने मुझे बस ऐसे ही कहकर टाल दिया था, लेकिन अब उससे उसके मन की पूरी बात मालूम होनी ही चाहिए. तो मैंने बहुत सोच विचार करके एक झूटी मैल आई डी बनाई और नमिता रावत  से गुप् चुप  करने लगा. मेरे मित्रगणों  चुत छोड़ने के बाद सुस्ती सी आ जाती है    .


 क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये पहले तो कुछ दिनों तक सब कुछ एकदम ठीक-ठाक चल रहा था लेकिन अब हम धीरे धीरे एक अच्छे दोस्त बन गये और तब मैंने उससे उसकी शादीशुदा जिन्दगी के बारे में पूछा तो उसने मेरे बहुत बार पूछने पर बताया और तब में यह बात जानकार बड़ा दुखी हुआ कि वो तो एक लंबा, मोटा लंड लेना चाहती है और उसका पति उसे कभी भी खुश नहीं कर पाता और वो अब तक प्यासी है. तो यह सिलसिला रोज़ चलता रहा और में हर रोज़ उसकी चुदाई करता और वो रोज़ मुझे गुप् चुप  पर उसके पति की चुदाई के बारे में बताया करती. लेकिन में अब बहुत हैरान था कि वो कैसे किसी अंजान को अपनी चुदाई के बारे में सब कुछ बता रही है? और अब में धीरे धीरे उससे सेक्स चेटिंग भी करने लगा और आज जब नमिता रावत  घर पर आई तो मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया. अपनी बाहों में लिया और किस करने लगा वो गरम हो गयी और में उसकी चूत चाटने लगा. मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है.


 मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था     मुझे चूत चाटना बहुत अच्छा लगता है. वो अब तड़प रही थी और फिर मैंने नमिता रावत  के बचे हुए कपड़े भी उतार दिए और अब वो बिल्कुल नंगी थी. फिर हमने एक बार जमकर चुदाई की और सो गये. लेकिन तभी मुझे महसूस हुआ कि वो मुझसे और भी चुदाई करवाना चाहती है लेकिन अब मुझमें चुदाई करने की बिल्कुल हिम्मत नहीं थी और फिर उसके अगले दिन वो ऑफिस चली गयी और में एक अंजान बनकर उससे सेक्स गुप् चुप  करने लगा. गुप् चुप  करते करते उसने अपना वेब केमरा शुरू कर लिया और मुझे अपने बूब्स दिखाने लगी. वो बड़े ज़ोर ज़ोर से उनको मसल रही थी, दबा रही थी और उनको निचोड़ रही थी. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.


 साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है वो एकदम जोश से भरी हुई थी तभी मेरी नज़र उसके पीछे पड़ी. वहां पर उसका बॉस खड़ा हुआ था जो कि एक 40 साल का लंबा छड़ा आदमी था और नमिता रावत  मुझसे गुप् चुप  करते हुए, अपने केबिन का दरवाजा अंदर से बंद करना भूल गयी थी और अब उसने अपना टॉप उतार दिया था और वो इतनी गरम हो चुकी थी कि अब वो अपनी चूत में उंगली करने लगी. वो हर बात से एकदम अनजान थी. उसे नहीं पता था कि उसके पीछे उसका बॉस उसका यह सब काम देख रहा था. तभी बॉस ने उससे बोला कि तुम यह क्या कर रही हो? तो नमिता रावत  एकदम से डर गई और रोने लगी और वो अपना टॉप पहनने लगी लेकिन तभी बॉस ने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपनी बाहों में भरकर किस करने लगा. नमिता रावत  की तो जैसे लाटरी ही लग गई. अब सुनिए चुदाई की असली कहानी.


 मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया बॉस ने नमिता रावत  के सभी कपड़े एक एक करके झट से उतार दिए और अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में थी. दोस्तों में आपको क्या बताऊँ? वो क्या मस्त लग रही थी. उसे देखकर मेरा भी लंड खड़ा हो गया और अब बॉस नमिता रावत  को दीवार के सहारे खड़ा करके उसके बूब्स को मसलने लगा, जिसकी वजह से नमिता रावत  के मुहं से सेक्स की मधुर आवाज बाहर निकल रही थी. वो ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ ले रही थी और चुदाई के लिए तड़पने लगी. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों  .


नमिता रावत  : अहह उह्ह्ह्हह्ह प्लीज ऐसा मत करो सर यह सब अच्छा नहीं है.

बॉस : ठीक है, अगर तुम यही चाहती हो तो में बाहर चला जाता हूँ.

नमिता रावत  : क्या अब आप मुझे प्यासी छोड़कर जाओगे सर, आज आप मुझे अच्छी तरह से चोदो.

फिर नमिता रावत  ने बॉस के सभी कपडे उतार दिए.

नमिता रावत  : सर यह आपका लंड है या किसी गधे का लगा रखा है (दोस्तों बॉस का लंड करीब 9 इंच लंबा और 3 इंच मोटा था और वो दिखने में बिल्कुल किसी जानवर के लंड की तरह दिख रहा था).

 मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया फिर नमिता रावत  ने अब बिना देरी किए लंड को अपने मुहं में ले लिया. बॉस के मुहं से आवाज़े निकलने लगी और करीब दस मिनट के बाद बॉस के लंड से वीर्य निकल गया, जिसे नमिता रावत  ने बड़े ही प्यार से चाट चाटकर साफ किया और अब बॉस ने नमिता रावत  की चूत को चाटना शुरू किया तो नमिता रावत  बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी. प्रिंस महादेवन  (बॉस का नाम) में अब पागल हो रही हूँ, मुझे ऐसे मत तड़पाओ आआहह उह्ह्ह्ह चोद डालो मुझे, आईईई प्लीज अब फाड़ डालो मेरी चूत को और फिर प्रिंस महादेवन  ने नमिता रावत  की 15 मिनट तक चूत चाटी, इस बीच नमिता रावत  दो बार झड़ चुकी थी और अब प्रिंस महादेवन  का लंड दोबारा से लोहे जैसा कड़क हो गया. तो उसने नमिता रावत  को अब टेबल पर लेटा दिया और अपना मोटा लंड उसकी चूत पर रखा. वहा जबरजस्त माल भी थी मेरे मित्रगणों . 


नमिता रावत  : प्रिंस महादेवन  प्लीज थोड़ा आराम से करना, अब यह चूत तुम्हारी है, इसका ख्याल तुम्हे ही रखना है.

प्रिंस महादेवन  : रांड़ तुझे तो में आज ऐसे चोदूंगा कि तू आज के बाद सिर्फ़ मुझसे ही चुदना चाहेगी.

 मेरे मित्रगणों  चोदते चोदते चुत का भोसड़ा बन गया फिर यह बात बोलते बोलते प्रिंस महादेवन  ने नमिता रावत  की चूत में एक जोरदार झटका मारा और उसका आधा लंड, चूत की दीवार को चीरता हुआ अंदर चला गया. लेकिन नमिता रावत  ज़ोर से चिल्ला उठी रोक ऊईईईई में अह्ह्ह्हह्ह नहीं ले सकती, प्लीज इसे बाहर निकालो उफ्फ्फ्फफ्फफ में मर जाउंगी. तो प्रिंस महादेवन  ने एक बार लंड बाहर निकालने का नाटक किया और फिर एक और ज़ोरदार झटका मार दिया और अब नमिता रावत  चिल्ला ना सकी क्योंकि प्रिंस महादेवन  ने अपने होंठो से उसके होंठ बंद कर लिए थे. मेरे मित्रगणों  एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया.


 उह क्या मॉल था मेरे मित्रगणों  गजब  नमिता रावत  की आँखो से आँसू और चूत से खून बाहर निकलने लगा. प्रिंस महादेवन  दस मिनट ऐसे ही लेटा रहा और अब नमिता रावत  कुछ शांत हुई और फिर प्रिंस महादेवन  ने धीरे धीरे झटके लगना शुरू किया, लेकिन धीरे धीरे नमिता रावत  ने भी प्रिंस महादेवन  का साथ देना चालू कर दिया. दोस्तों मुझे उस माइक्रो फोन पर चूत और लंड की मधुर आवाज़ और वो भी मेरी पत्नी की, मुझे सुनकर मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था. उनके साथ साथ अब में भी जोश से भर गया और अपने लंड को हिलाने लगा. अब नमिता रावत  भी उछल उछल कर प्रिंस महादेवन  का साथ देने लगी और अब उनकी चुदाई को बीस मिनट से भी ज्यादा हो चुके थे और इस बीच नमिता रावत  4 बार झड़ चुकी थी लेकिन प्रिंस महादेवन  अभी तक नहीं झड़ा था. उसके लंड में अभी भी जोश बाकी था और अब अचानक से प्रिंस महादेवन  के झटको की स्पीड तेज़ हो गयी और नमिता रावत  भी पागलों की तरह बोलने लगी. अह्ह्ह्हह जान और बहुत तेज़ चोदो मुझे अह्ह्हह्ह्ह्हह्ह ओए ज़ोर से धक्के दो मेरी चूत पर, में अब आज से तुम्हारी रंडी हूँ अह्ह्ह चोदो उह्ह्ह्हह्ह मुझे और चोदो फाड़ दो मेरी चूत. क्या बताऊ मेरे मित्रगणों  मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया.


तो प्रिंस महादेवन  अब झड़ने वाला था और नमिता रावत  भी. प्रिंस महादेवन  ने नमिता रावत  से पूछा कि अब में क्या करूं, इसे कहाँ निकालूं? तो नमिता रावत  बोली कि प्लीज इसे मेरी चूत के अंदर ही निकाल दो, मेरी चूत तुम्हारा रस पीना चाहती है और दो मिनट बाद प्रिंस महादेवन  ने अपना रस नमिता रावत  की चूत में छोड़ दिया और फिर थककर नमिता रावत  के ऊपर लेट गया. उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये .


 मेरे मित्रगणों  मैंने किसी भाभी को छोड़ा नहीं है 15 मिनट के बाद दोनों उठे और अपने अपने जिस्म को साफ किया. नमिता रावत  ने कपड़े पहने और प्रिंस महादेवन  को एक लंबा किस दिया. आज नमिता रावत  प्रिंस महादेवन  के साथ उसकी गाड़ी में घर पर आई और वो आज मुझे बहुत खुश नजर आ रही थी. तो मैंने उससे उसकी खुशी का कारण पूछा तो वो मुझसे बोली कि आज उसकी एक बहुत पुरानी इच्छा पूरी हो गयी. तो मैंने उससे पूछा कि वो क्या? तो वो बोली कि अपनी इच्छा ऐसे कभी किसी को नहीं बताते और ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी और अब वो रोज़ प्रिंस महादेवन  की गाड़ी में घर पर आने लगी. वो उसकी चुदाई से बहुत खुश रहने लगी और अब में कभी कभी उसे चोदता हूँ. लेकिन वो मेरी चुदाई में ज्यादा रूचि नहीं दिखाती क्योंकि वो मेरे लंड से बड़ा लंड हर रोज लेकर आती है. उसे अब मनचाहा लंड मिल गया है, जिससे वो बहुत खुश है. मेरे मित्रगणों  एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया एक बार मैंने अपने मौसी की लड़की को जबरजस्ती चोद दिया.

What did you think of this story??






अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।