मुख्य पृष्ठ » बीवी की चुदाई » बीवी के साथ हनिमून


बीवी के साथ हनिमून

Posted on:- 2021-09-01


नमस्कार मेरे मित्रगणों  और सुनाइए कैसे आप सब , यह स्टोरी बिल्कुल वैसी ही लिखी गई है जैसी मेरे साथ हुई है. उस दिन करुणा देवास  और ससंक देवड़ी  की शादी की सालगिरह का दिन था, तो वो दोनों किसी हिल स्टेशन पर जाकर अपनी शादी की सालगिरह मनाने की सोचते है और हिल स्टेशन चले जाते है. फिर वो दोनों बहुत देर तक होटल कि छत पर घूमने के बाद होटल के रूम में आते है. फिर करुणा देवास  बोलती है कि बोलिए आप गिफ्ट में क्या चाहते है? तो ससंक देवड़ी  बोलता है कि मुझे तो बस तुझे एक बार चूमना है. अच्छा दोस्तों क्या आपने किसी लड़की को चोदा है सच्ची बताना मै एक नंबर का आवारा चोदा पेली करने वाला  लड़का हु मुझे लड़किया चोदना अच्छा लगता है.

करुणा देवास  : अरे, वो तो आप रोज़ करते हो ना? कुछ स्पेशल पूछो ना.

ससंक देवड़ी  : मुझे शर्म आ रही है.

करुणा देवास  : बोलकर तो देखिए.

ससंक देवड़ी  : रहने दे करुणा देवास , तुझे अजीब लगेगा.

करुणा देवास  : नहीं लगेगा, आज कुछ भी चलेगा कहते हुए करुणा देवास  अपनी साड़ी का पल्लू उतार देती है. 

ससंक देवड़ी  : ठीक है करुणा देवास , में बस एक चीज़ चाहता हूँ.

करुणा देवास  : वो क्या?

ससंक देवड़ी  : करुणा देवास  में बस एक बार तेरी गांड सूंघकर उसे चाटना चाहता हूँ.

करुणा देवास  : हँसते हुए, बस इतनी छोटी गिफ्ट, वो तो में आपको कभी भी दे सकती हूँ कुछ बड़ा मांगो ना. ये कहानी पढ़ कर आपका लंड खड़ा नहीं हुआ तो बताना  लड खड़ा ही हो जायेगा .


ससंक देवड़ी  : तू बस इतना कर दे करुणा देवास .

करुणा देवास  : में तो आपको बहुत बड़ा गिफ्ट दूँगी.
 क्या बताऊ मेरे मित्रगणों   उसको देखकर किसी लैंड टाइट हो जाये अब ससंक देवड़ी  का मन मचलने लगता है. फिर करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के करीब आकर उसे किस करती है, करुणा देवास  के बूब्स काफ़ी बड़े और शेप में है, वो ससंक देवड़ी  की छाती पर दबे हुए होते है. अब ससंक देवड़ी  किस करते समय अपना हाथ करुणा देवास  की कमर पर चला रहा था और उसके बूब्स दबा रहा था. मेरे मित्रगणों  मने बहुत सी भाभियाँ चोद राखी है.


करुणा देवास  : आप मुझे कुछ नहीं देंगे क्या?

ससंक देवड़ी  : बोल क्या करूँ? अपने हाथ से तेरे कपड़े उतारू और तू मेरे उतार.

करुणा देवास  : आज उतने से काम नहीं चलेगा.

ससंक देवड़ी  : तो क्या चाहिए?

करुणा देवास  : हम आज रात ना ही पंखा चलाएगें और ना ए.सी चलाएगें.

ससंक देवड़ी  : लेकिन क्यों? तुझे तो बहुत जल्दी पसीना आ जाता है ना, ऑश अच्छा इसलिए नटखट.

करुणा देवास  : शर्माती है.

 मेरे मित्रगणों  क्या मलाई वाला माल लग रहा था     फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  के गहने और चूड़ी उतारता है और फिर उसके बाल खोलता है. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  की साड़ी उतार देता है. अब करुणा देवास  लाल ब्लाउज और लहंगे में होती है. फिर करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के पूरे कपड़े उतार देती है, अब करुणा देवास  का क्लीवेज देखकर ससंक देवड़ी  का लंड खड़ा हो जाता है. फिर करुणा देवास  उसका लंड देखकर बोलती है कि आप बहुत जल्दी में लग रहे हो. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  के बूब्स उसके ब्लाउज के ऊपर से ही दबाना शुरू कर देता है. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.

करुणा देवास  : अरे बाबा, पहले मेरे कपड़े निकालकर मुझे नंगी तो कर दो.

 साथियो की पुराणी मॉल छोड़ने का मजा ही कुछ और है  ससंक देवड़ी  अपने मुँह से करुणा देवास  का ब्लाउज खोलकर उसके लहंगे का नाड़ा खोल देता है. अब करुणा देवास  सिर्फ़ ब्लेक ब्रा और ब्लेक पेंटी में बहुत हॉट लगती है. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  को पलटता है और उसकी गांड देखता है. करुणा देवास  की गांड बहुत बड़ी और सेक्सी लगती है और वो ब्लेक पेंटी उसकी सिर्फ़ गांड की लाईन को ही कवर करती है, जो कि उसकी गांड में नज़र भी नहीं आ रही थी. अब सुनिए चुदाई की असली कहानी.


 मेरे मित्रगणों  एक बार चोदते  चोदते  मेरा लंड घिस गया अब ससंक देवड़ी  आउट ऑफ कंट्रोल हो रहा था, अब गर्मी बढ़ चुकी थी. अब करुणा देवास  की बगल से और उसकी कमर से पसीना बह रहा था, अब उसकी जांघे भी गीली और हॉट लग रही थी. फिर करुणा देवास  अपना हाथ ससंक देवड़ी  की अंडरवेयर में डालकर उसे और बेचैन करने लगती है और एकदम से उसकी अंडरवियर उतार देती है. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  को अपनी गोद में उठाकर बिस्तर पर लेटा देता है. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  के दोनों पैरों को खोलकर उसकी जांघो को चाटने लगता है. फिर 20 मिनट तक चाटने के बाद ससंक देवड़ी  बोलता है कि करुणा देवास  अब और मत तड़पा, अब मेरा गिफ्ट दे दे. वहा का माहौल बहुत अच्छा था  मेरे मित्रगणों.  


 मेरे मित्रगणों  उस लड़की मैंने चुत का खून निकल दिया करुणा देवास  : अभी आप रुकिये, अब करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के लंड के ऊपर आकर बैठ जाती है और सामने झुक जाती है, जिससे ससंक देवड़ी  का मुँह सीधा करुणा देवास  के क्लीवेज में जाकर दब जाता है और फिर करुणा देवास  आगे पीछे होती है, जिससे ससंक देवड़ी  का लंड करुणा देवास  की पेंटी में अंदर बाहर होने लगता है. फिर ससंक देवड़ी  भी करुणा देवास  के क्लीवेज का सारा पसीना सूंघता हुआ उसे चाटने लगता है और उसकी ब्रा अपने मुँह से उतार देता है. मेरे मित्रगणों  एक बार मैंने अपने गांव के लड़की जबरजस्ती चोद दिया


 उह क्या मॉल था मेरे मित्रगणों  गजब  फिर करुणा देवास  अपने दोनों हाथ ऊपर करके ससंक देवड़ी  को उन्हें चाटने को बोलती है. करुणा देवास  के बगल पर एक छोटा सा काला तिल था जो पसीने के कारण बहुत सेक्सी लग रहा था और उधर से करुणा देवास  का पसीना भी बह रहा था. फिर ससंक देवड़ी  अपनी जीभ से करुणा देवास  के दोनों बगलों को अच्छे चाटने लगता है. अब ससंक देवड़ी  अपनी उंगली करुणा देवास  की गांड छेद पर रगड़कर करुणा देवास  को तड़पा रहा था. मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मेरे मित्रगणों क्या बताऊ मेरे मित्रगणों  मैंने चुदाई हर लिमिट पार कर दिया.
  


करुणा देवास  : अब आप अपना गिफ्ट ले लीजिए.

 कुछ भी  हो माल एक जबरजस्त था   ससंक देवड़ी  अपना हाथ उस लकीर में जो पेंटी का स्ट्रीप था, उसे निकालकर फाड़ देता है और करुणा देवास  को खड़ा कर देता. अब करुणा देवास  का पसीना उसकी कमर से उसकी चूत में जा रहा होता है. अब ससंक देवड़ी  करुणा देवास  की चूत सूंघता है और फिर अपनी जीभ पूरी बाहर निकालकर उसकी गांड पर रखता है तो करुणा देवास  की चीख निकल जाती है. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  की गांड को वैसे ही 1 घंटे तक स्मेल और चाटता रहता है. फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  को बोलता है कि करुणा देवास  तेरी गांड में तो एक नशा है, मज़ा आ गया. उसको देखकर  किसी का मन बिगड़ जाये .


 मेरे मित्रगणों  मैंने किसी भाभी को छोड़ा नहीं है करुणा देवास  : बस इतनी ही देर, यह तो आप रोज कर सकते है, आज थोड़ा ज्यादा हो ज़ाए बोलकर करुणा देवास  ससंक देवड़ी  को बेड पर लेटाकर अपनी गांड टाईट करके उसके मुँह के ऊपर बैठ जाती है. अब ससंक देवड़ी  करुणा देवास  की पूरी गांड चाटने लगता है. फिर करीब 1 घंटे तक इसी पोज़िशन में होने के बाद ससंक देवड़ी  करुणा देवास  को उठाता है. फिर वो दोनों अलग-अलग हो जाते है. अब ससंक देवड़ी  करुणा देवास  के बूब्स मसलता है और करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के लंड के साथ खेलती है. उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है.


करुणा देवास  : ससंक देवड़ी  मजा आ रहा है, या नहीं.

ससंक देवड़ी  : क्या इरादा है तेरा?

 मेरे मित्रगणों  एक बार स्कूल में चुदाई कर दिया बड़ा मजा आया फिर करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के ऊपर आकर बैठ जाती है और उसका लंड अपनी चूत में डाल देती है. अब ससंक देवड़ी  से भी रहा नहीं गया और उसने एकदम से अपना लंड पूरा करुणा देवास  की चूत में घुसा दिया और करुणा देवास  की चीख निकल गई. अब ससंक देवड़ी  का लंड पूरी तरह से करुणा देवास  की चूत में घुस गया था. अब करुणा देवास  सामने झुककर अपने बूब्स ससंक देवड़ी  के मुँह पर लगा रही थी और धीरे-धीरे आगे पीछे हो रही थी और आवाज़ें निकाल रही थी आहह ऑश ससंक देवड़ी  ऑश ऑश और ससंक देवड़ी  को चोद रही थी. अब ससंक देवड़ी  ने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और वो करुणा देवास  को ज़ोर- ज़ोर से चोदने लगा. अब उन दोनों की आवाज़ पूरे कमरे में गूँजने लगी थी. फिर करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के बाजू में आकर लेट जाती है. मेरे मित्रगणों  चोदते  चोदते  कंडोम के चीथड़े मच गए.


ससंक देवड़ी  : क्या हुआ डार्लिंग थक गई हो?

करुणा देवास  : नहीं मेरी जान, अभी मुझे और करना है प्लीज मेरे ऊपर आ जाओ ना.

 ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है अब ससंक देवड़ी  करुणा देवास  के पैर उठाकर अपना लंड करुणा देवास  की चूत के छेद में लगा देता और धीरे-धीरे घुसाने लगता है. अब करुणा देवास  की आँखें बंद होने लगती है और उसे मजा आने लगता है. फिर करुणा देवास  ससंक देवड़ी  के हाथ अपने बूब्स पर रख देती है और ससंक देवड़ी  उन्हें मसलने लगता है. फिर लगभग आधे घंटे तक वो दोनों इसी तरह से चोदते रहते है. एक बार मैंने अपने मौसी की लड़की को जबरजस्ती चोद दिया.


 है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई अब गर्मी इतनी बढ़ चुकी थी कि उन दोनों को बहुत पसीना आने लगता है और अब करुणा देवास  तो इतनी गीली हो चुकी थी कि ऐसा लग रहा था कि वो अभी नहाकर आई हो. अब करुणा देवास  को गीली देखकर ससंक देवड़ी  का लंड वापस कड़क हो गया था. फिर उसने वापस से करुणा देवास  को बेड पर लेटाया और उसके हाथ ऊपर करके उसकी बगल के पसीने को सूंघकर चाटने लगा और फिर 10 मिनट के बाद करुणा देवास  के पैर खोलकर करुणा देवास  की चूत चाटने लगा. मेरे मित्रो मामा की लड़की की चुदाई में बड़ा मजा आया.


करुणा देवास  : अभी मेरी पीठ और गांड भी बाकी है.

 मेरे मित्रगणों  कई बार जबरजस्ती शॉट मरने में चुत से खून निकल गया फिर ससंक देवड़ी  करुणा देवास  को पलटकर उसकी पीठ चाटने लगता है और उसकी गांड के पास आकर अपना मुँह उसमें घुसाकर करुणा देवास  की गांड सूंघकर चाटने लगता है. फिर वो दोनों बाथरूम में जाकर शॉवर में नहाने लगे और एक दूसरे को स्मूच करने लगे. उसका भोसड़ा का छेड़ गजब का था मेरे मित्रगणों  .


ससंक देवड़ी  : आज बहुत मजा आया.

करुणा देवास  : हाँ, हमको ऐसे हर हफ्ते करना चाहिए बोलकर, वो दोनों एक दूसरे को किस करने लगे.

 मेरे मित्रगणों  मेरा तो मानना है जब भी चुत मारनी हो बिना कंडोम के ही मारो तभी ठीक नहीं सब बेकार  तरह से उन दोनों ने फिर से अपनी सुहागरात मनाई और खूब इन्जॉय किया. उसके बूर की गहराई में जाने के बाद क्या मजा आया मेरे मित्रगणों   जैसे उसके चुत में माखन भरा हो मुझे तो कभी कभी चुदाई का टाइफिड बुखार हो जाता है और जब तक चुदाई न करू    तब तक ठीक नहीं होता.

What did you think of this story??


अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें


हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !


* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।